BJP की रथयात्रा पर रोकने के फैसले को सही नहीं मानते पश्चिम बंगाल के अधिकतर वोटर

नई दिल्ली        
पश्चिम बंगाल में लगातार राजनीतिक हिंसा के लिए अधिकतर वोटर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को दोषी मानते हैं, साथ ही ममता बनर्जी सरकार की ओर से बीजेपी की रथयात्रा पर रोक लगाने के फैसले को ‘सही नहीं’ मानने वाले वोटरों की संख्या ज़्यादा है. ये निष्कर्ष एक्सिस माई इंडिया की ओर से इंडिया टुडे के लिए कराए गए पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज (PSE) के ताजा सर्वे से सामने आए हैं. हालांकि मुख्यमंत्री के लिए ममता बनर्जी लोकप्रियता के मामले में अपने प्रतिद्वंद्वियों से कहीं आगे हैं. PSE सर्वे के मुताबिक ममता बनर्जी सरकार के कामकाज से 46% वोटर संतुष्ट हैं और 22% असंतुष्ट. सर्वे से सामने आया कि प्रधानमंत्री के लिए नरेंद्र मोदी को पहली पसंद बताने वाले वोटरों की संख्या पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक है. दूसरे नंबर पर ममता बनर्जी से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पिछड़े हुए हैं.

बीजेपी की रथ यात्रा पर रोक का फ़ैसला 46% की राय में सही नहीं

पिछले कुछ महीनों से पश्चिम बंगाल टीएमसी और बीजेपी के बीच राजनीतिक टकराव का केंद्र बना हुआ है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पश्चिम बंगाल में पार्टी का आधार बढ़ाने के लिए लगातार राज्य के दौरे कर रहे हैं. वहीं ममता बनर्जी की कोशिश देशभर के विपक्षी नेताओं को एक मंच पर लाकर 2019 लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी और बीजेपी के सामने कड़ी चुनौती पेश करने की है.

बीजेपी की रथयात्रा को पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से रोकने के फैसले को PSE सर्वे में 46% वोटरों ने सही नहीं माना. सिर्फ 26% प्रतिभागियों ने ही इस फैसले को सही बताया. PSE सर्वे में 28% वोटर इस सवाल पर कोई साफ़ राय नहीं जता सके.

दोनों पार्टियों के बीच रस्साकशी के साथ ही पश्चिम बंगाल से लगातार राजनीतिक हिंसा की ख़बरें आती रही हैं. PSE सर्वे के मुताबिक राज्य में लगातार राजनीतिक हिंसा के लिए PSE सर्वे में 28% प्रतिभागियों ने सत्तारूढ़ पार्टी टीएमसी को दोषी ठहराया. वहीं 14% वोटरों ने राजनीतिक हिंसा के लिए बीजेपी को जिम्मेदार माना. लेफ्ट को दोषी ठहराने वाले सिर्फ 1% प्रतिभागी ही रहे. 17% वोटरों ने इसके लिए दूसरे कारण गिनाए. 40%  वोटर इस सवाल पर कोई स्पष्ट राय नहीं व्यक्त कर सके.   

48% वोटर चाहते हैं बंगाल में असम की तरह NRC

क्या असम की तरह पश्चिम बंगाल में भी नागरिकों का राष्ट्रीय रजिस्टर (NRC) होना चाहिए, इस सवाल के जवाब में PSE सर्वे में 48%  वोटरों ने ‘हां’ में जवाब दिया. वहीं 30% प्रतिभागियों ने कहा कि पश्चिम बंगाल में नागरिकों के लिए ऐसा रजिस्टर नहीं होना चाहिए.

ममता सरकार के कामकाज से 46% वोटर संतुष्ट
जनवरी में हुए ताजा PSE सर्वे में ममता बनर्जी सरकार के कामकाज से 46% वोटरों ने खुद को संतुष्ट बताया. अक्टूबर 2018 में हुए सर्वे में ये आंकड़ा 43% था. ताजा सर्वे में राज्य सरकार के कामकाज से 22% वोटरों ने खुद को असंतुष्ट बताया. तीन महीने पहले ममता बनर्जी सरकार के कामकाज से 30% वोटर खुद को असंतुष्ट बता रहे थे.

मोदी सरकार के कामकाज से 55% वोटर संतुष्ट
जहां तक केंद्र में बीजेपी सरकार के कामकाज का सवाल है तो PSE सर्वे में 55% वोटरों ने खुद को संतुष्ट बताया. बीते साल अक्टूबर में हुए  PSE सर्वे में ये आंकड़ा 51% था. केंद्र में मोदी सरकार के कामकाज से PSE सर्वे में 23% प्रतिभागियों ने खुद को असंतुष्ट बताया. तीन महीने पहले हुए सर्वे में मोदी सरकार के कामकाज से खुद को असंतुष्ट बताने वाले प्रतिभागी 25% थे.

पीएम के लिए मोदी 49% वोटरों की पसंद, ममता से पिछड़े राहुल

ताजा PSE सर्वे के मुताबिक प्रधानमंत्री के लिए पसंद के मामले में नरेंद्र मोदी सबसे आगे है. पश्चिम बंगाल के लिए ताजा PSE सर्वे में 49% प्रतिभागियों ने नरेंद्र मोदी को पीएम के लिए पहली पसंद बताया. अक्टूबर में हुए PSE सर्वे में 46% वोटरों ने मोदी को पीएम के लिए पहली पसंद बताया था. PSE से एक और महत्वपूर्ण बात सामने आई कि इस राज्य में प्रधानमंत्री की पसंद के लिए मोदी के निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी नहीं बल्कि राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हैं. सर्वे में 25% वोटरों ने ममता को प्रधानमंत्री के लिए अपनी पसंद बताया. तीन महीने पहले अक्टूबर में हुए PSE में ये आंकड़ा 21% था. जहां तक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का सवाल है तो पश्चिम बंगाल में उनकी लोकप्रियता में बीते तीन महीने में 5% की गिरावट आई है. ताजा सर्वे में उन्हें 15% वोटरों ने ही प्रधानमंत्री के लिए अपनी पसंद बताया. अक्टूबर PSE सर्वे में ये आंकड़ा 20% था.   

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close