देश

अयोध्या में रामलला के लिए अस्थायी मंदिर का निर्माण शुरू, चढ़ावा SBI अफसर गिनेंगे

 अयोध्या 
अयोध्या में रामलला के लिए फाइबर के फोल्डिंग से अस्थायी मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है। दिल्ली से आए तकनीकी विशेषज्ञों के निर्देशन में काम चल रहा है। रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के प्रस्ताव पर रामलला विराजमान के स्थान का परिवर्तन हो रहा है। परिसर में मजदूरों की मदद से शुक्रवार को साफ-सफाई कराई गई। जेसीबी से पुराने और जर्जर निर्माणों को ध्वस्त कराकर उसे समतल किया गया। इससे पहले वैदिक रीति से भूमि के शुद्धिकरण के साथ बैरीकेडिंग कराई जाएगी। रामजन्मभूमि न्यास की ओर से छह दिसंबर 92 के पहले रखवाए गए राम मंदिर के शिलाओं को भी क्रेन लगाकर हटवा दिया गया। यहां पर दर्शनार्थियों की भीड़ नियंत्रण के लिए गैंग-वे का भी निर्माण होगा।

रामलला के चढ़ावे की गिनती बैंककर्मी करेंगे
रामजन्मभूमि में विराजमान रामलला के चढ़ावे की गिनती अब भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के अधिकारियों के निर्देशन में बैंककर्मियों की ओर से ही की जाएगी। इसके साथ ही बैंक कर्मचारी ही सुरक्षा वाहन से चढ़ावे की धनराशि को बैंक लेकर जाएंगे।  रामलला के चढ़ावे की धनराशि की गिनती प्रत्येक माह के पांच व 20 तारीख को की जाती है। यह गिनती अब तक परिसर के कर्मचारी व पुजारियों की देखरेख में ही होती थी। अब इस चढ़ावे में पुजारियों का दखल नहीं रहेगा। रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय के आग्रह पर न्यासी बिमलेन्द्र मोहन प्रताप मिश्र एवं संघ के प्रांत कार्यवाह डॉ. अनिल मिश्र ने इस संबंध में एसबीआई के अधिकारियों से बातचीत कर चढ़ावे की गिनती की जिम्मेदारी उन्हें सौंप दी है। एसबीआई की अयोध्या शाखा के नवीनीकरण के उपरांत अनावरण के लिए बैंक के लखनऊ मंडल के मुख्य महाप्रबंधक सलोनी नारायण सहित अन्य अधिकारी यहां मौजूद रहे।

रजत शिला का पूजन 
श्रीराम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास ने रजत शिला का पूजन विधि विधान के साथ किया। नृत्यगोपाल दास ने कहा कि इस पवित्र शिला को अयोध्या में बनने वाले भव्य और दिव्य राम मंदिर की नींव में स्थान दिया जाएगा।

नृपेंद्र मिश्र आज पहुंचेंगे अयोध्या
रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के निर्माण कमेटी व प्रशासनिक इकाई के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र शनिवार को तकनीकी विशेषज्ञों की टीम के साथ यहां आएंगे। वह रामलला के दर्शन के उपरांत करीब 70 एकड़ में फैले पूरे परिसर का निरीक्षण भी करेंगे। मिश्र के साथ ही ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के अलावा अन्य न्यासी भी साथ रहेंगे। इस दौरान भावी कार्यों का निर्देश भी परिसर के सुरक्षा अधिकारियों को दिया जाएगा। इसके साथ मिश्र के साथ आ रही तकनीकी विशेषज्ञों की टीम रामजन्मभूमि का मृदा परीक्षण भी करेगी। यदि मृदा परीक्षण फेल हुआ तो आवश्यक स्ट्रेंथ का लेयर तैयार करने के लिए निश्चित गहराई में मिट्टी की खुदाई कर उसे हटा दिया जाएगा और गड्ढे पर  पुन: उपयुक्त मिट्टी डलवाकर उसकी लेयर तैयार की जाएगी।