राजनीति

ज्योतिरादित्य सिंधिया की नाराज़गी के बीच CM कमलनाथ ने लिया शिवराज का नाम

भोपाल
ज्योतिरादित्य सिंधिया से अनबन की ख़बरों के बीच सीएम कमलनाथ ने कहा है कि मेरी किसी से कोई नाराज़गी नहीं है. सीएम ने कहा जब मैं शिवराज सिंह चौहान से नाराज़ नहीं होता तो ज्योतिरादित्य से कैसे होऊंगा.

पिछले दिनों ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बयान दिया था कि वो वचन पत्र के वादे पूरे ना होने पर जनता के साथ सड़क पर उतरेंगे. उसके बाद एमपी की राजनीति का सियासी पारा एकदम चढ़ गया था. सीएम कमलनाथ ने ये कहकर इसका जवाब दिया था कि सिंधिया चाहें तो ऐसा कर सकते हैं. प्रदेश के इन दो दिग्गज नेताओं के बयान को सियासी हलकों में तकरार के रूप में देखा जा रहा था. लेकिन आज सीएम कमलनाथ ने मीडिया के सामने बयान दिया कि मेरी किसी से कोई नाराज़गी नहीं है. मैं जब शिवराज सिंह चौहान से कभी नाराज़ नहीं होता तो सिंधिया से कैसे हो सकता हूं. कमलनाथ ने सिंधिया के सड़क पर उतरने वाले बयान को लेकर कहा,मुझे जो कहना था पहले कह दिया है.

पिछले हफ्ते टीकमगढ़ में एक सभा में ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने कहा था कि अगर उनकी (आमलोगों की) मांगें पूरी नहीं हुई तो वह लोगों के साथ सड़क पर उतरेंगे. किसानों का ऋण और आपकी अन्य मांगें हमारे वचन पत्र में हैं. वचन पत्र मेरे लिए धार्मिक वाक्य है, यदि इसमें होने के बाद आपकी मांगें पूरी नहीं हुई तो ये सिंधिया भी आपके साथ सड़क पर उतरेगा.

ज्योतिरादित्य सिंधिया के बयान पर सीएम कमलनाथ ने चौंकाने वाली प्रतिक्रिया दी थी. उन्होंने कहा था कि 'तो वह उतर जाएं'.दरअसल, मध्‍य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान किसानों की कर्जमाफी को मुद्दा बनाया गया था. कांग्रेस ने किसानों का कर्जा माफ करने का वादा किया था, लेकिन अभी तक इस पर अमल नहीं हो सका है. ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने इसी को लेकर बयान देते हुए सड़क पर उतरने की बात कही थी. सीएम कमलनाथ ने सिंधिया के बयान पर दो टूक जवाब देते हुए कहा था कि तो वह उतर जाएं.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने सिंधिया कमलनाथ मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी कि पार्टी का वचन पत्र (Manifesto) पूरे 5 साल के लिए है. हमने वचन पत्र के बहुत से वादे पूरे कर लिए हैं, जबकि अन्य वादों पर काम चल रहा है. सिंधिया कमलनाथ में चल रहे बयानों के तीर को लेकर उन्होंने कहा था कि सिंधियाजी (Jyotiraditya Scindia) किसी के खिलाफ नहीं हैं. प्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamalnath) के नेतृत्व में पूरी पार्टी एक है.