Home देश मलेरिया और डेंगू फैलने का डर, पानीपत के इस एरिया में मिला...

मलेरिया और डेंगू फैलने का डर, पानीपत के इस एरिया में मिला मलेरिया का पहला केस

28
0

पानीपत
पानीपत के लोगों को सावधान रहने की जरूरत है। कोरोना के साथ अब मलेरिया-डेंगू के पैर पसारने का डर बढ़ गया है। इस सीजन का मलेरिया का पहला कंफर्म मरीज कुलदीप नगर कालोनी में मिला है। मरीज का आरडीटी(रेडिकल ट्रीटमेंट) पूरा कराया जा रहा है। आसपास के 60 घरों में एंटी लार्वा स्प्रे भी कराया गया है। एरिया में एंटी लार्वा एक्टिविटी (पानी में पनपा मच्छर का लार्वा को नष्ट करना) भी कराई गई है। डिप्टी सिविल सर्जन (वैक्टर बोर्न डिजीज) डा. सुनील संडूजा ने यह जानकारी दी है।

हेल्थ सुपरवाइजर जसमेर सिंह ने बताया कि मलेरिया संक्रमित मरीज सिविल अस्पताल से ही खानपुर मेडिकल कालेज रेफर किया गया था। वहां हुई जांच में रिपोर्ट पाजिटिव मिली। टीमों ने एक अप्रैल से 31 जुलाई तक 8.71 लाख घराें में दस्तक देकर कंटेनर, गमले, फ्रिज में लार्वा की जांच की। 4351 स्थानों पर मच्छर का लार्वा मिला है। लार्वा नष्ट करके 3640 लाेगाें काे नाेटिस थमाया। हेल्थ सुपरवाइजर ने जिला वासियों को जागरूक करते हुए कहा कि होदी, टंकी, कूलर, रेफ्रीजरेट ट्रे और बर्तनों में पानी हर सप्ताह बदल दिया जाए। जलभराव है तो काला तेल (वाहनों व अन्य इंजिन से निकला मोबिल आयल) डालें ताकि लार्वा न पनपे।

2030 तक मलेरिया मुक्त का लक्ष्य
सरकार ने वर्ष 2030 तक हरियाणा को मलेरिया मुक्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।अक्टूबर तक हर माह की 10 तारीख तक रेपिड सर्वे किया जाएगा।

70 हजार से अधिक बुखार के मरीज मिले
जिला में दो-तीन सदस्यीय 216 टीमें फील्ड में काम कर रही हैं। अभियान के दाैरान 70 हजार 822 लाेग बुखार से पीड़ित भी मिले हैं। इनकी रक्त स्लाइड बनाई गई। अभी तक मलेरिया का एक केस मिला है।गनीमत यह कि इस साल डेंगू का कोई कंफर्म केस नहीं मिला है।

एंटी लार्वा एक्टिविटी के आंकड़े
स्थान संख्या लार्वा मिला
घर 8,72,291 4351
कूलर 2,02,097 1276
टंकी 3,52,252 523
हाेदी 1,03,111 394
कंटेनर-गमले 8,79,914 1902
टायर-फ्रीज 2,91,919 285
3640 को नोटिस थमाए
70,822 की रक्त स्लाइड बनी

मच्छरों से बचाव के तरीके

  • सोते समय मच्छर दानी का उपयोग करें।
  • खिड़की दरवाजों में नेटिंग होनी चाहिए।
  • घर-आसपास पानी को एकत्र न होने दें।
  • शरीर को ढ़कने वाले कपड़े पहनें।
  • बुखार आने पर तुरंत जांच कराएं।
  • जलभराव है तो उसमें काला तेल डालें।
Previous articleमंकीपॉक्स के इलाज में वैश्विक स्तर पर कमी, उपचार दिशानिर्देश नही हैं स्पष्ट : रिपोर्ट
Next articleरीट आंसर-की जल्द ही हो जाएंगे जारी, आवेदन में सुधार कल तक, BSER ने जारी किया नोटिस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here