Home Uncategorized गौ-संवर्धन बोर्ड अध्यक्ष स्वामी श्री गिरि द्वारा पशु चिकित्सा शिविर का अवलोकन

गौ-संवर्धन बोर्ड अध्यक्ष स्वामी श्री गिरि द्वारा पशु चिकित्सा शिविर का अवलोकन

47
0

भोपाल

गौ-संवर्धन बोर्ड की कार्यपरिषद के अध्यक्ष महामण्डलेश्वर स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरि की उपस्थिति में भोपाल में शारदा विहार स्थित कामधेनु गौ-शाला एवं गौ-विज्ञान अनुसंधान केन्द्र में गायों को गलघोंटू, एक टंगिया आदि बीमारियों का टीकाकरण करने के साथ ही बछड़े-बछड़ों को कृमि-नाशक दवाइयाँ दी गईं। स्वामी श्री गिरि, वेटनरी काउंसिल ऑफ इण्डिया के अध्यक्ष डॉ. उमेश शर्मा, संचालक पशुपालन एवं डेयरी डॉ. आर.के. मेहिया ने उपचार के लिये गौ-शाला को औषधियाँ भी भेंट की।

स्वामी श्री गिरि ने गौ-शाला में 200 से अधिक गिर नस्ल की गायों के रख-रखाव, स्वास्थ्य और स्वच्छता की प्रशंसा की। गौ-शाला दो भागों में विभक्त है। एक खण्ड में दुधारु गाय हैं। अधिकांश गाय 10 से 24 लीटर तक दूध दे रही हैं। दूसरे खण्ड में बेसहारा और बीमार गायों को प्रश्रय दिया जाता है। इन गायों का गौ-मूत्र और गोबर भी गौ-काष्ठ, फिनायल आदि बनाने में उपयोग होता है। गौ-शाला के अनुसंधान केन्द्र में 42 प्रकार की औषधि का भी निर्माण किया जाता है। तुलसी और आँवले के उत्पाद बनाये जा रहे हैं। आईआईटी दिल्ली एवं मेपकास्ट के सौजन्य से गौ-शाला में बायो-सीएनजी प्लांट भी लगाया गया है। गौ-शाला संचालक, श्री विष्णु पाटीदार, श्री अजय शिवहरे और श्री प्रकाश मण्डलोई ने गौ-शाला की गतिविधियों से स्वामी जी को अवगत कराया।

संयुक्त संचालक डॉ. बी.एस. शर्मा के नेतृत्व में डॉ. नीना त्रिपाठी, डॉ. नीता रावत, डॉ. शोभना कौशल, डॉ. पूजा गौर, सहायक पशु चिकित्सा अधिकारी श्री बी.एस. कुशवाह, श्री सी.पी.एस. ठाकुर, श्री एम.एस. मेहता, सुश्री सुनीता खरते, श्री रमेश सोनीने और डॉ. स्नेहलता की टीम द्वारा लगातार शिविर लगाकर पशुओं का उपचार, टीकाकरण करने के साथ पशु-पालकों को मार्गदर्शन दिया जा रहा है।

पशुपालन एवं डेयरी विभाग की पशु चिकित्सा सेवा माता महामारी इकाई द्वारा प्रदेश की गौ-शालाओं में गौवंश को निरोग रखने के लिये माता महामारी जन-जागरण शिविर का आयोजन किया जा रहा है। प्रतिवर्ष होने वाला यह शिविरों का सिलसिला अप्रैल माह से जारी है।

 

Previous articleउच्च महंगाई, प्रतिस्पर्धी दबाव और प्रतिकूल मौसम के कारण गिरावट जुलाई में मंद होकर चार महीने के निचले स्तर पर
Next articleयात्री करते रहे ट्रेनों का इंतजार, दिल्ली-सहारनपुर रेलवे ट्रैक ठप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here