Home Uncategorized कॉमनवेल्थ फूड फ्यूचर, वर्मिंघम में शामिल हुए ईट-राइट स्मार्ट सिटी चैलेंज के...

कॉमनवेल्थ फूड फ्यूचर, वर्मिंघम में शामिल हुए ईट-राइट स्मार्ट सिटी चैलेंज के विजेता

39
0

भोपाल

एफएसएसएआई दिल्ली द्वारा की गई ईट-राइट स्मार्ट सिटी चैलेंज में प्रदेश के विजेता वर्मिंघम, यूके में आयोजित कॉमनवेल्थ फूड फ्यूचर कार्यशाला में शामिल हुए। ईट-राइट स्मार्ट सिटी चैलेंज में मध्यप्रदेश से देश में सर्वाधिक 4 जिलों इंदौर, उज्जैन, सागर और जबलपुर ने शीर्ष 11 विजेताओं में स्थान प्राप्त कर उपलब्धि अर्जित की थी। खाद्य सुरक्षा और स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. सुदाम खाड़े के नेतृत्व में मध्यप्रदेश से संयुक्त नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रशासन श्री अभिषेक दुबे, अपर कलेक्टर इंदौर श्री अभय बेडेकर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्मार्ट सिटी सागर श्री राहुल राजपूत, मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्मार्ट सिटी उज्जैन श्री आशीष पाठक और मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्मार्ट सिटी जबलपुर श्रीमती निधि राजपूत वर्मिंघम में आयोजित कॉमनवेल्थ फूड फ्यूचर कार्यशाला में शामिल हुए। कार्यशाला का आयोजन कॉमनवेल्थ खेलों की पूर्व संध्या पर किया गया।

खाद्य सुरक्षा और स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. खाड़े ने बताया कि कॉमनवेल्थ फूड फ्यूचर कार्यशाला में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर फूड पॉलिसी, शुद्ध एवं गुणवत्तापूर्ण खाद्य के लिये विश्व के विभिन्न देशों में किये जा रहे नवाचारों के ज्ञान का आदान-प्रदान किया गया। कार्यक्रम में वर्मिंघम खाद्य प्रणाली रणनीति को समझने के लिये एक मंच भी प्रदान किया गया। एक ऐसी खाद्य और ऐसी अर्थ-व्यवस्था बनाने के लिये 8 साल की परियोजना की परिकल्पना की गई, जहाँ सभी नागरिकों के लिये सस्ता, पौष्टिक और वांछनीय भोजन विकल्प उपलब्ध हो। कार्यशाला में भाग लेने वाले कई देश खाद्य प्रणाली परिवर्तन के लिये प्रतिबद्ध शहरों के लिये बनाये गये "फूड सिटीज-2022 लर्निंग प्लेटफार्म'' में सम्मिलित हो गये हैं। कार्यशाला में विश्व के विभिन्न देशों के साथ भारत ने भी प्रतिनिधित्व किया। तीन दिवसीय कार्यशाला के मुख्य पैनलिस्ट में मुख्य वक्ताओं के रूप में प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर रहे खाद्य सुरक्षा एवं स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. सुदाम खाड़े द्वारा प्रदेश में ई राइट स्मार्ट सिटी में किये गये नवाचारों के बारे में अपने अनुभव और विचारों से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि नवाचारों में जिलों में उपलब्ध संसाधनों का पूर्णत: उपयोग करते हुए स्वयं के नवाचार कार्यक्रम जैसे इंदौर में ईट-राइट फैमिली, जबलपुर में ईट राइट शुभंकर फिट बड्डा, सागर में मोबाइल गेम एप-दाऊ गेम, मेरा किचन-मेरी प्रयोगशाला, फूड सेफ्टी आर्मी तथा उज्जैन में फूड एण्ड न्यूट्रीशन यूनिवर्सिटी कोर्स को काफी सराहा गया। कार्यशाला में अन्य देशों की फूड पॉलिसी और नवाचारों से प्राप्त अनुभवों का लाभ भविष्य में निश्चित ही मध्यप्रदेश को प्राप्त होगा।

ईट-राइट स्मार्ट सिटी चैलेंज में मध्यप्रदेश के चारों विजेता शहर इंदौर, उज्जैन, सागर और जबलपुर को 50-50 लाख की पुरस्कार राशि पूर्व में ही प्राप्त हो चुकी है। चैलेंज ईट-राइट से आम जनता में खाद्य गुणवत्ता और हाईजीन के प्रति जागरूकता बढ़ी है। आमजन ने खाद्य सुरक्षा को वैश्विक आवश्यकता और अपनी जिम्मेदारी समझते हुए चैलेंज में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में उत्साहपूर्वक भाग लिया है। प्रत्येक जिले द्वारा अपने क्षेत्र की विशेषताओं को दृष्टिगत रखते हुए चैलेंज के लिये विशेष योजना अनुसार कार्य किया गया, जिससे इन शहरों के खान-पान के व्यवहार एवं व्यवस्था में निश्चित ही सुधार आयेगा। चारों शहरों ने ईट-राइट स्मार्ट सिटी आयोजन में बहुत अच्छा कार्य प्रदश्रन किया। इसके फलस्वरूप अक्टूबर-2022 में ब्राजील में होने वाले एमयूएफपीपी ग्लोबल फोरम में भागीदारी करने के लिये इन चारों शहरों को चयनित किया गया है।

 

Previous articleपेंशनरों की मंहगाई राहत में बढो़त्तरी
Next articleडी.एल.एड. प्रथम एवं द्वितीय वर्ष मुख्य परीक्षा कार्यक्रम जारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here