Home उत्तरप्रदेश राष्ट्रपति के बाद उपराष्ट्रपति चुनाव में भी मायावती विपक्ष के खिलाफ, एनडीए...

राष्ट्रपति के बाद उपराष्ट्रपति चुनाव में भी मायावती विपक्ष के खिलाफ, एनडीए सरकार के जगदीप धनखड़ को वोट देगी बीएसपी

39
0

लखनऊ
 
बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की प्रमुख मायावती ने राष्‍ट्रपति चुनाव के बाद उपराष्‍ट्रपति चुनाव में भी विपक्ष के खिलाफ अलग स्‍टैंड लेते हुए एनडीए उम्‍मीदवार के समर्थन का ऐलान किया। उन्‍होंने साफ कर दिया है कि बीएसपी, एनडीए के उम्‍मीदवार जगदीप धनखड़ को वोट देगी। उप राष्‍ट्रपति पद के लिए 6 अगस्‍त को मतदान होना है। इसके पहले बीएसपी सुप्रीमो ने एनडीए उम्‍मीदवार को समर्थन का ऐलान कर सबको चौंका दिय है। उन्‍होंने एक ट्वीट कर बताया कि उपराष्‍ट्रपति चुनाव में उनकी पार्टी ने एनडीए उम्‍मीदवार जगदीप धनखड़ को समर्थन देने का फैसला किया है।
उन्‍होंने लिखा- 'सर्वविदित है कि देश के सर्वोच्च राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव में सत्ता और विपक्ष के बीच आम सहमति ना बनने की वजह से ही इसके लिए फिर अन्ततः चुनाव हुआ। अब ठीक वही स्थिति बनने के कारण उपराष्ट्रपति पद के लिए भी दिनांक 6 अगस्त को चुनाव होने जा रहा है।'
एक अन्‍य ट्वीट में मायावती ने लिखा-'मायावती ने दूसरे ट्वीट में कहा, 'बीएसपी ने ऐसे में उपराष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव में भी व्यापक जनहित और अपनी मूवमेंट को भी ध्यान में रखकर जगदीप धनखड़ को अपना समर्थन देने का फैसला किया है और जिसकी मैं आज औपचारिक रूप से घोषणा भी कर रही हूं।'

राष्‍ट्रपति चुनाव में भी दिया था एनडीए का साथ
बता दें कि बसपा ने इसके पहले राष्ट्रपति चुनाव में भी एनडीए के उम्‍मीदवार का समर्थन किया था। मायावती ने द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में मतदान किया था। बीएसपी का कहना है कि उनका ये फैसला स्वतंत्र रूप से लिया गया है। ये न सत्तापक्ष के समर्थन में है न विपक्ष के खिलाफ।

10 अगस्‍त को खत्‍म हो रहा वेंकैया नायडू का कार्यकाल
मौजूदा राष्‍ट्रपति वेंकैया नायडू का कार्यकाल 10 अगस्‍त को खत्‍म हो रहा है। उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए 6 अगस्‍त को वोट पड़ेंगे। उसी दिन मतों की गणना भी होगी।

जगदीप धनखड़ के खिलाफ मार्गरेट अल्‍वा हैं विपक्ष की उम्‍मीदवार
उपराष्‍ट्रपति चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को उम्‍मीदवार बनाया है तो उनके खिलाफ विपक्षी दलों ने मार्गरेट अल्वा को प्रत्याशी चुना है। मार्गरेट अल्वा भी राज्यपाल रह चुकी हैं।

 

Previous articleकार्तिक-कियारा की फिल्म ‘सत्यप्रेम की कथा’ का फर्स्ट लुक मोशन फोटो रिलीज
Next articleजल संसाधन एवं गृह विभाग के अधिकारियों के बीच समन्वय स्थापित करें : मंत्री सिलावट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here