देश

दिल्ली: कोरोना रोज बना रहा नए रेकॉर्ड, 24 घंटे में महाराष्ट्र से भी ज्यादा आए नए मामले

नई दिल्ली
देश की राजधानी दिल्ली में एयर पलूशन के खतरे के बीच कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है। दिल्ली में कोरोना रोज नए-नए रेकॉर्ड बना रहा है। दिल्ली में पिछले 24 घंटे में महाराष्ट्र से भी ज्यादा कोरोना केस सामने आए हैं। 24 घंटे के दौरान दिल्ली में कोरोना के 7745 नए मामले मिले, जबकि 77 लोगों ने कोरोना से अपनी जान गंवाई। वहीं महाराष्ट्र में कोरोना के 5092 नए मामले सामने आए हैं, 8232 लोग संक्रमण मुक्त हुए हैं और 110 लोगों की मौत हुई है। बता दें कि महाराष्ट्र में दिल्ली की तुलना में रोजाना ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित होते हैं। मगर अब दिल्ली में एयर पलूशन बढ़ने और त्योहारों का सीजन शुरू होने के साथ ही कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी होने लगी है। यही कारण है कि दिल्ली ने महाराष्ट्र को भी पछाड़ दिया है। दिल्ली में अबतक कोरोना वायरस की चपटे में आने से 6989 लोगों की मौत हो चुकी है। दिल्ली में 438529 लोग अबतक कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 6069 कोरोना के पेशंट्स ठीक हुए हैं। दिल्ली में अब भी कोरोना के 41857 केस हैं। त्योहारी मौसम और बढ़ते वायु प्रदूषण के बीच दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में तेजी से वृद्धि हुई है। शनिवार को दिल्ली में 6953 केस और शुक्रवार को दिल्ली में पहली बार कोविड-19 के 7,000 से अधिक मामले सामने आए। शनिवार को शहर में बीते चार महीने में सबसे अधिक 79 रोगियों की मौत हुई।

स्वास्थ्य मंत्री बोले कोविड-19 का तीसरा दौर चरम पर पहुंचा
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने रविवार को कहा कि राजधानी में कोविड-19 का तीसरा दौर चरम पर है और मामलों की संख्या देखकर लगता है कि यह अब तक का सबसे बुरा चरण है। मंत्री ने कहा कि सरकार ने दिल्ली के अस्पतालों में कोविड-19 रोगियों के लिये बिस्तरों की संख्या बढ़ा दी है, लेकिन होटलों और बैंक्वेट हॉल की सेवाएं लेने की अभी कोई योजना नहीं है।

मास्क ही एकमात्र उपाय
जैन ने कहा, ''कुछ लोगों को लगता है कि अगर वे मास्क नहीं पहनेंगे तो भी उन्हें कुछ नहीं होगा। वे गलत सोच रहे हैं। जब तक कोविड-19 रोधी टीका तैयार नहीं हो जाता, तब तक मास्क ही एकमात्र दवा है।'