देश

एनकाउंटर में मारे जा चुके विकास दुबे के नाम पर अब तक 100 से ज्यादा लोगों को मिली धमकी, जांच शुरू  

 कानपुर 
विकास दुबे पुलिस एनकाउंटर में मारा जा चुका है मगर अभी भी कई गुर्गे उसके नाम का सहारा लेकर कानपुर के बिकरू और आसपास के गांवों में लोगों को डराने धमकाने का काम कर रहे हैं। इस तरह की 100 से ज्यादा शिकायतें डीआईजी को मिली हैं। उन्होंने सभी शिकायती प्रार्थना पत्रों की जांच सीओ बिल्हौर संतोष सिंह को सौंप दी है। डीआईजी का कहना है कि इन प्रार्थना पत्रों की जांच करने के बाद आरोप सही पाने जाने पर सभी आरोपितों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर उन्हें जेल भेजा जाएगा।

विकास दुबे के गुर्गे अब लोगों को डरा धमका रहे हैं। इस तरह के 100 से ज्यादा प्रार्थना पत्र चौबेपुर थाना, सीओ समेत अन्य अधिकारियों के पास पहुंच चुके हैं। ब्रह्मनगर के सक्षम अवस्थी ने एक शिकायती पत्र भेजा है। सक्षम ने आरोप लगाया कि वह लखनऊ एसआईटी टीम के सामने बयान दिए है। इसके बाद विकास व जय बाजपेई के गुर्गे धमकी दे रहे हैं। डीआईजी डा. प्रीतिन्दर सिंह ने कहा कि इस तरह की सभी शिकायतों की जांच सीओ बिल्हौर को सौंपी गई है। 

शहर के एक हिस्ट्रीशीटर के पास है विकास का खजाना
पुलिस के हाथ एक ऐसा शिकायती पत्र हाथ लगा है। जो काफी चौकाने वाला है। इस शिकायती पत्र में कानपुर शहर के एक हिस्ट्रीशीटर का जिक्र किया गया है। करीब सात पन्नो के इस शिकायती पत्र में बताया गया कि विकास दुबे का सबसे खास गुर्गा है। जिसके पास विकास दुबे खजाना रहता था। कई बेमानी संपत्तियों का ब्योरा रहता है। विकास की करोड़ों की ज्वैलरी भी वही रखी जाती थी। साथ ही विकास के कई गुर्गे शहर में रहकर काम करते थे। कई जिलों में जमीने हैं। इस शातिर को पकड़ने से काफी बड़ा मामला सामने आ सकता है। पुलिस इसकी गोपनीय जांच कर रही है।