उत्तर प्रदेशराज्य

हाथरस कांड: STF की विशेष यूनिट ने शुरू की जांच, कथित भाभी और चार लड़कों पर शक

लखनऊ 
हाथरस कांड के पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) कनेक्शन की जांच स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की विशेष यूनिट ने शुरू कर दी है. इसके साथ ही साथ-साथ सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने की साजिशों की जांच की जा रही है. शुरुआती जांच के मुताबिक, चार लड़के और एक 'भाभी', पीड़ता के घर में मौजूद थे.

बताया जा रहा है कि चारों लड़कों के पास आईफोन था, जो लगातार कहीं बातें करते थे. पीड़िता के घर के बगल के कमरे में हजारों पानी के बोतल रखे गए थे, ताकि मीडिया और दूसरे लोगों को पानी पिलाया जा सके. परिवार की स्थिति को देखकर ऐसा नहीं लगता कि परिवार मीडिया के लिए ऐसे इंतजामों में सक्षम था.

पीएफआई से जुड़े चार संदिग्ध मथुरा टोल प्लाजा पर पकड़े गए थे. अब एसटीएफ इस बात की जानकारी जुटा रही है कि घर के भीतर रहने वाले लड़के, तथाकथित परिवार की भाभी और सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वाले लोगों का कोई कनेक्शन था या नहीं. साथ ही मथुरा में पकड़े गए चार लड़कों का रोल क्या था?
 
एसटीएफ जांच से इतर हाथरस कथित गैंगरेप केस में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) जांच जारी है. सीबीआई टीम ने मंगलवार को पीड़ित परिवार से एक घंटे तक पूछताछ की. पीड़िता के बड़े भाई ने बताया कि वह घटना के समय घर पर था. इस दौरान सीबीआई ने पीड़िता के भाई से पूछा कि घटना के दिन वह कौन से कपड़े पहने हुए थे?

वहीं, पीड़िता के भाई का कहना है कि चश्मदीद विक्रम उर्फ छोटू गलत बयान दे रहा है. भाई का कहना है कि छोटू बाद में घटना स्थल पर पहुंचा था. पीड़िता के भाई ने कहा कि विक्रम उर्फ छोटू को वह जानते हैं और वह उन्हें घर बुलाने आया था.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close