राजनीति

समाजवादी पार्टी की सरकार में एक नहीं 3 मुख्यमंत्री थे: शिवपाल यादव 

मेरठ
प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने कंकरखेड़ा में एक निजी कार्यक्रम के दौरान माना कि समाजवादी पार्टी की पूर्ववर्ती सरकार में तीन मुख्यमंत्री होते थे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्रदेश की वर्तमान बीजेपी सरकार में कितने मुख्यमंत्री हैं, इसकी संख्या तो कोई नहीं गिन पा रहा। उन्होंने कहा कि यही वजह है कि प्रदेश की योगी सरकार कोई ठोस कदम नहीं ले पा रही है। एक सवाल के जवाब में शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि उनकी पार्टी बीजेपी के साथ कभी चुनाव नहीं लड़ेगी। उन्होंने कहा कि बीजेपी से बहुत ऑफर मिले, लेकिन कभी तवज्जों नहीं दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव में गठबंधन के साथ प्रगतिशील समाजवादी पार्टी चुनाव लड़ेगी। लेकिन चुनाव को लेकर सबसे पहले हाथ समाजवादी पार्टी की ओर हाथ बढ़ाया जाएगा। उसके बाद बाकी अन्य राजनीतिक दल हैं, जिनके साथ मिलकर महागठबंधन चुनाव लड़ेगा। उन्होंने कहा, 'हम लोहिया की विचारधारा के लोग हैं। जो भी दल समान विचारधारा का होगा, उसी के साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे।'

'सम्मान के साथ समझौता नहीं'
समाजवादी पार्टी में विलय की चर्चाओं को खारिज करते हुए शिवपाल यादव ने कहा, 'प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) का स्वतंत्र अस्तित्व बना रहेगा। पार्टी विलय जैसे एकाकी विचार को एक सिरे से खारिज करती है। अपने पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को यह विश्वास दिलाती है कि उनके सम्मान के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा।' गौरतलब है कि 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद ही अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के एक होने की कवायद और चर्चा चल रही है। अखिलेश यादव ने भी पिछले दिनों नरम रुख दिखाया था। वहीं, शिवपाल सार्वजनिक तौर पर अखिलेश यादव के नेतृत्व को स्वीकारने में हिचक न होने का इशारा कर चुके थे। ऐसे में बुधवार को मेरठ में शिवपाल शिवपाल ने साफ इशारा कर दिया है कि 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए उनकी पार्टी अपने दम पर जुटी है।

'सत्ता पलटे बगैर…'
शिवपाल ने कहा, 'हम सेक्युलर दलों को एकजुट देखना चाहते हैं, जिससे भारतीय जनता पार्टी के जंगलराज को समाप्त किया जा सके। नौजवानों, किसानों की बदहाल स्थिति के लिए हम कोई भी संघर्ष और कुर्बानी के लिए तैयार हैं। अब हमारा एक मात्र लक्ष्य 2022 के चुनाव है। सत्ता पलटे बगैर इस प्रदेश को प्रगति के रास्ते पर नहीं लौटाया जा सकता।'
 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button