छत्तीसगढ़राज्य

शासकीय अफसरों से रुपए वसूलने वाले तीन आरोपी गिरफ्तार

रायपुर
छत्तीसगढ़ में एंटी करप्शन ब्यूरो और आर्थिक अपराध शाखा के नाम पर सरकारी अधिकारियों से उगाही करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को पकड़ा है। हालांकि इन तीनों का आपस में कोई तालमेल है अथवा नहीं यी पूरी जांच के बाद ही पता चल सकेगा। पकड़े गये तीन आरोपियों में दो पुलिस विभाग से जिनमे से एक बर्खास्त पुलिस एक निलंबित पुलिस कर्मी तथा तीसरा स्वंय को आरटीआई एक्टिविस्ट व पत्रकार बता रहा है।

इस बारे में जानकारी देते हुए एसीबी-ईओडब्ल्यू के निदेशक और आईजी आरिफ एच शेख ने बताया कि  पुलिस के बर्खास्त एसआई सत्येंद्र सिंह वर्मा ने बलौदा बाजार के भाटापारा निवासी पटवारी को उसका एसीबी में चल रहा मामला खत्म करवाने के लिए पांच लाख रुपये मांगे थे।उसका कहना था, वह एसीबी मुख्यालय से आया हैऔर आईजी आरिफ एच शेख के लिए काम करता है। पटवारी ने इसकी जानकारी एसीबी मुख्यालय को दे दी। जिसके बाद भाटापारा थाने में भी इसकी रिपोर्ट लिखी गई। जांच के बाद पुलिस ने बर्खास्त एसआई सत्येंद्र सिंह वर्मा को गिरफ्तार कर लिया।

रायपुर जिला पुलिस से निलंबित चल रहे एएसआई विनोद वर्मा और उसके साथियों ने एक वन परिक्षेत्राधिकारी को निशाना बनाया। अधिकारी के खिलाफ ईओडब्ल्यू में आर्थिक अपराध की गंभीर शिकायत बताकर दबाव बनाया। ईओडब्ल्यू के निदेशक और उनके लिए काम करने की बात कर वर्मा ने वन परिक्षेत्राधिकारी से 10 लाख रुपये वसूले, जिसकी जानकारी पीड़ित अधिकारी ने ईओडब्ल्यू मुख्यालय में इसकी सूचना भी दी। वन परिक्षेत्राधिकारी की सूचना पर रायपुर के टिकरापारा थाने में एफआईआर दर्ज की गई और आरोपी विनोद वर्मा को बलौदा बाजार में गिरफ्तार किया गया। पुलिस का कहना है, गिरोह में शामिल अन्य लोगों की भी तलाश की जा रही है। इसमें वन विभाग का एक बर्खास्त कर्मचारी भी शामिल है।

एसीबी अधिकारियों ने बताया, रायपुर के राजेश तराटे ने खुद को आरटीआई एक्टिविस्ट और पत्रकार बताकर आरटीआई से अधिकारियों-कर्मचारियों के मामलों की जानकारी ली। उसके बाद उनके खिलाफ एसीबी-ईओडब्ल्यू में केस दर्ज कराने का भय दिखाकर वसूली शुरू की थी। अधिकारियों ने बताया, राजेश तराटे ने एक एसडीओ और एक वनपाल पर दबाव बनाकर 10 हजार और 15 हजार रुपये की वसूली की गई थी। अधिक रकम के लिए वह दोनों पर दबाव बना रहा था। ईओडब्ल्यू में सूचना देने के साथ ही पीड़ितों ने रायपुर के सिविल लाइन थाने में मामला दर्ज कराया। सिविल लाइन पुलिस ने दोनों शिकायतों के आधार पर तराटे को गिरफ्तार कर लिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button