बिज़नेस

रूस की कोरोना वैक्सीन के लाखो डोज भारत में ही बनेंगे

मुंबई
रूस ने
कोरोना की पहली वैक्सीन बनाने का दावा किया था। इसे Sputnik-V नाम दिया गया है। अर्जेंटीना को सप्लाई करने के लिए इसकी कुछ लाख डोज भारत में तैयार की जाएगी। रूस के Gamaleya National Research Institute of Epidemiology and Microbiology और इसके सॉवरेन फंड Russian Development Investment Fund (RDIF) ने इसके लिए भारतीय साझेदारों के साथ करार किया है।

इसका खुलासा अर्जेंटीना के राष्ट्रपति अल्बर्टो फर्नांडीज ने एक इंटरव्यू में किया। उन्होंने कहा कि उनके देश को रूस से कोविड वैक्सीन की सप्लाई मिलेगी। आरडीआईएफ के सीईओ किरिल दिमित्रीव ने कहा कि अर्जेंटीना के लिए Sputnik-V वैक्सीन भारत, कोरिया, चीन और कई दूसरे देशों में बनाई जाएगी। जब उनसे भारतीय साझेदारों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हमने अभी तक अपने पार्टनर्स का खुलासा नहीं किया है। हम इस बारे में ज्यादा कुछ नहीं कहना चाहते हैं।

डॉ. रेड्डीज के साथ करार
आरडीआईएफ ने भारत में Sputnik-V के क्लीनिकल ट्रायल और भारत के लिए इसकी 10 करोड़ डोज बनाने के लिए डॉ. रेड्डीज के साथ करार किया है। कंपनियों ने भारत में इस वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल शुरू कर दिया है। पिछले सप्ताह डॉ. रेड्डीज ने कहा कि ट्रायल्स के नतीजे मार्च 2021 तक आने की उम्मीद है।

Sputnik-V वैक्सीन में human adenovirus vector का इस्तेमाल होता है। इस वैक्सीन प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल रैबीज के टीके के व्यावसायिक उत्पादन के लिए हो चुका है। हाल में इबोला के वैक्सीन में भी इसका इस्तेमाल हुआ है। दिमित्रीव ने सितंबर में ईटी से कहा था कि Sputnik-V वैक्सीन के उत्पादन के लिए उनकी कुछ और भारतीय कंपनियों से भी बातचीत चल रही है। उन्होंने कहा था कि भारत रूसी वैक्सीन के उत्पादन का एक बड़ा केंद्र होगा और ये वैक्सीन केवल भारत ही नहीं बल्कि दूसरे देशों को भी सप्लाई की जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close