राष्ट्रीय

महाराष्ट्र से हर रोज लापता होती हैं 105 लड़कियां-NCRB

  पुणे
नैशनल क्राइम रेकॉर्ड्स ब्यूरो (NCRB) 2019 के आंकड़ों से महिला अपराध से जुड़े चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। आंकड़ों के अनुसार महाराष्ट्र में हर दिन 105 महिलाएं लापता हो जाती हैं और 17 महिलाओं की हर हफ्ते तस्करी होती है। राष्ट्रीय स्तर पर जितने भी महिलाओं के लापता और तस्करी के मामले होते हैं, उनमें महाराष्ट्र टॉप पर है। महाराष्ट्र के बाद मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल है।

2019 में तस्करी के शिकार हुए 989 में से 88 फीसदी महिलाएं और 6 फीसदी बच्चे थे। बंधुआ मजदूरी, अंग तस्करी, ड्रग पेडलिंग, यौन शोषण, जबरन विवाह आदि जैसे विभिन्न कारणों से मानव तस्करी की जाती थी। महाराष्ट्र के मामले में, 95.6 तस्करी का कारण जबरन वेश्यावृत्ति के जरिए यौन शोषण रहा।

इस साल में 13 फीसदी ज्यादा लापता हुईं महिलाएं
इसके अलावा, 2019 और 2018 के आंकड़ों की तुलना करें तो महिलाओं के लापता होने के मामलों में 13 फीसदी की वृद्धि हुई है। 2018 में सबसे अधिक लापता बच्चों वाले शीर्ष 10 राज्यों की सूची में महाराष्ट्र नहीं था, लेकिन अब 4,562 बच्चों के लापता होने के बाद अब राज्य, राष्ट्रीय स्तर पर चौथे स्थान में पहुंच गया है। लापता बच्चों के आंकड़ों में देखा गया कि उनमें से, 55 लड़कियां थीं।

सेक्स ट्रैफिकिंग बड़ा कारण
मुंबई, पुणे और नागपुर के तीन प्रमुख महानगरों में रेड-लाइट क्षेत्रों का एक विशाल नेटवर्क होने के नाते, राज्य सेक्स ट्रैफिकिंग का बड़ा स्रोत है। महानगरों के अलावा, राज्य भर में कई छोटे और मध्यम रेड-लाइट क्षेत्र हैं।

अपहरण के मामले में दूसरे नंबर पर महाराष्ट्र
भले ही देश में अपहरण और अपहरण के मामलों में 0.7 फीसदी की मामूली गिरावट आई है, लेकिन महाराष्ट्र में महिलाओं के खिलाफ अपराध बड़े पैमाने पर हैं। उत्तर प्रदेश के बाद, महाराष्ट्र में 2019 में सबसे ज्यादा अपहरण के मामले दर्ज किए गए। इन मामलों में बीते साल की तुलना में 1.9 फीसदी की वृद्धि भी देखने को मिली।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close