मनोरंजन

भारतीय सेना के बहदुरी के चर्चे अब चीनी सोशल मीडिया पर

पेइचिंग
पूर्वी लद्दाख में चीन की दादागिरी के खिलाफ पैंगोंग झील के पास भारतीय सेना के जोरदार पलटवार की चर्चा अब चीनी सोशल मीडिया में तेज हो गई है। चीनी सोशल मीडिया में जारी ताजा सैटलाइट तस्‍वीरों में भारतीय सेना की पहाड़ी युद्ध लड़ने की काबिल‍ियत एक बार फिर से उजागर हो गई है। चीन के गाओफेन-2 सैटलाइट से खुलासा हुआ है कि भारतीय सैनिक अब रणनीतिक रूप से बेहद अहम ब्‍लैक टॉप से मात्र डेढ़ किमी दूर हैं।

भारतीय सैनिक अब इस स्थिति में आ गए हैं कि वे चीन के मोल्‍दो कैंप को भी निशाना बना सकते हैं। इसी कैंप में भारत और चीन के सैन्‍य अधिकारियों के बीच बातचीत होती है। भारत की इस बढ़त से साफ हो गया है कि ये जवान पहाड़ी युद्ध लड़ने में महारत रखते हैं और ऊंची से ऊंची पहाड़ी को मात्र कुछ ही समय में चढ़ने में सक्षम हैं। भारतीय सैनिकों की इसी क्षमता का असर है कि वे अ‍ब ब्‍लैक टॉप से मात्र डेढ़ किमी दूर हैं।

दोनों ओर से करीब 50-50 हजार जवानों की तैनाती
भारतीय सेना की इस तैनाती को देखते हुए चीन ने भी बड़ी संख्‍या में तैनाती किए हैं। बता दें कि भारत और चीन सीमा तनाव के बीच दोनों देशों की सेनाएं वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तैनात हैं। बताया जा रहा है कि दोनों ओर से करीब 50-50 हजार जवानों की तैनाती की गई है। ओपन इंटेलिजेंस सोर्स detresfa के मुताबिक जिस गति से भारतीय सैनिक आगे बढ़ रहे हैं, उससे लग रहा है कि वे अभी रुके नहीं हैं और आने वाले समय में भारतीय सैनिकों के और आगे बढ़ने की खबर आ सकती है।

चीन के सोशल मीडिया पर तस्वीरें शेयर की जा रही हैं जिनमें भारतीय खेमे की स्थिति भी दिखाई जा रही है। इनमें भारतीय कैंप दिखाए जा रहे हैं जो स्पांगुर गैप में ऊंचाई पर बैठे हैं हैं जबकि चीनी कैंप नीचे हैं। इससे पहले भी चीन के सोशल मीडिया पर भारत की पोजिशन की तस्वीरें शेयर की जा रही थीं। इनमें पैंगॉन्ग के दक्षिण में पहाड़ों पर PLA कैंप पर नजर रखते भारतीय सेना के कैंप दिखाए गए थे।

चीन ने ब्लैकटॉप हिल पर की तैनाती
वहीं, इससे पहले detresfa की शेयर कीं सैटलाइट तस्वीरों में दिख रहा था कि चीन ने ब्लैकटॉप हिल के इलाके के आसपास भारी तैनाती शुरू कर दी है। चीन सुनिश्चित करना चाहता है कि यहां कोई मूवमेंट न हो और अगर हो तो उससे निपटा जा सके। भारतीय खेमे की तैयारी से बौखलाए चीन ने यहां सपॉर्ट कैंप भी तेजी से लगाने शुरू कर दिए हैं।

भारत का ऊंचाई पर कब्जा, नीचे हैं चीनी सैनिक
दरअसल, चीन की गतिविधियों को देखते हुए भारतीय सैनिकों ने PLA के कैंप के बहुत ऊपर पहुंचकर कैंप बना लिए हैं। भारत ने सामरिक ठिकानों पर मोर्चेबंदी के अलावा फिंगर 2 और फिंगर 3 इलाके में अपनी मौजूदगी बढ़ा दी है। हथियारों और भारी युद्धक उपकरणों से पूरी तरह लैस भारतीय सैनिकों ने ठाकुंग (Thakung) से लेकर रेक इन दर्रा (Req in La) तक की सभी महत्वपूर्ण चोटियों पर अपनी मोर्चेबंदी मजबूत कर ली।

स्‍पेशल फोर्स के कमांडोज ने की अगुवाई
भारत ने इस ऑपरेशन के जरिए ब्‍लैक टॉप और हेलमेट टॉप के चारों तरफ पोजिशंस बना ली हैं। पैगोंग के दक्षिणी तट पर मौजूद हर ऊंचाई एक-एक यूनिट को असाइन की गई थी। ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए सेना के अलावा इंडो-तिब्‍बतन बॉर्डर पुलिस (ITBP) और स्‍पेशल फ्रंटियर फोर्स (SFF) के जांबाज उपलब्‍ध थे। SFF कमांडोज ने कई जगह पर ऑपरेशन को लीड किया और मिशन पूरा किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close