राजनीति

बिहार विधानसभा चुनाव: पहले चरण में 71 सीटों पर 53.54 प्रतिशत हुआ मतदान, EC ने वोटर्स को दिया धन्यवाद

पटना 
बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए बुधवार को पहले चरण का मतदान हुआ। 16 जिलों की 71 विधानसभा सीटों के लिए शाम 6 बजे तक कुल 53.54 प्रतिशत वोटिंग हुई। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने इस बात की जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने बिहार के मतदाताओं को भी धन्यवाद दिया। पहले चरण के मतदान के बाद 1066 उम्मीदवारों की किस्मत अब ईवीएम में कैद हो गई है। 10 नवंबर को नतीजे आएंगे। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि बिहार में पहले चऱण के चुनाव में शाम 6 बजे तक 53.54 फीसदी मतदान हुआ है। मैं बिहार के मतदाताओं को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने इन परिस्थियों में आकर मतदान किया। बिहार प्रशासन को भी धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने कोविड को देखते हुए इतना विस्तृत इंतजाम किया था।

सबसे अधिक वोटिंग बांका में
पहले चरण में 16 जिलों में वोटिंग हई। सबसे अधिक 59.57 प्रतिशत मतदान बांका में हुआ। इसके अलावा भागलपुर 54.20 प्रतिशत, लखीसराय में 55 .44, शेखपुरा में 55.96, पटना में 52.51, मुंगेर में 47.36, भोजपुर में 48.29, बक्सर में 54.7, कैमूर में 56.20, नवादा में 52.34, रोहतास में 49.59, अरवल में 53.85, जहानाबाद में 53.93, औरंगाबाद में 52.85, गया में 57.5 और जमुई 57.41 फीसदी मतदान हुआ है।

31 हजार 380 मतदान केंद्र पर हुई वोटिंग
बिहार विधानसभा के पहले चरण का चुनाव कड़ी निगरानी और चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ कोविड-19 को लेकर चुनाव आयोग के निर्देशों का पालन करते हुए बुधवार की सुबह सात बजे शुरू हुआ। निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान के लिए सभी मतदान केंद्रों पर अर्द्धसैनिक बलों के जवानों की तैनाती किए जाने के साथ कुल 31,380 मतदान केन्द्रों के लिए 31,380-31,380 सेट इवीएम एवं वीवीपैट का प्रबंध किया गया था। आज जिन विधानसभा क्षेत्रों में मतदान हुआ उनमें 35 संवेदनशील अथवा अति संवेदनशील घोषित किए गए थे।

अलग-अलग समय तक हुआ मतदान
इन विधानसभा क्षेत्रों में से चैनपुर, नबीनगर, कुटुम्बा एवं रफीगंज में तीन बजे, कटोरिया, बेलहर, तारापुर, मुंगेर, जमालपुर, सूर्यगढा, मसौढ़ी, पालीगंज, चेनारी, सासाराम, काराकाट, गोह, ओबरा, औरंगाबाद, गुरूआ, शेरघाटी, इमामगंज, बाराचट्टी, बोधगया, टिकारी, रजौली, गोबिंदपुर, सिकंदरा, जमुई, झाझा एवं चकाई में मतदान चार बजे, अरवल, कुर्था, जहानाबाद, घोषी एवं मखदूमपुर में शाम पांच बजे ही मतदान समाप्त हो गया जबकि अन्य विधानसभा क्षेत्रों शाम छह बजे मतदान संपन्न हुआ।

सबसे अधिक उम्मीदवार गया टाउन में आजमा रहे किस्मत
प्रथम चरण के 71 विधान सभा सीटों में क्षेत्रफल के हिसाब से सबसे बड़ा विधानसभा क्षेत्र चैनपुर है, मतदातावार सबसे बड़ा विधान सभा क्षेत्र हिलसा तथा मतदातावार ही सबसे छोटा क्षेत्र बरबीघा है। इसी तरह प्रथम चरण में गया टाउन विधान सभा क्षेत्र से इस बार सबसे ज्यादा प्रत्याशी (27) तथा कटोरिया से सबसे कम प्रत्याशी (5) मैदान में थे।

पहले चरण में राजद की सबसे अधिक सीटें दांव पर
प्रमुख राजनीतिक दलों में, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जद (यू) ने 71 सीटों में से 35 पर अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारे, उसके बाद सहयोगी भाजपा ने 29 सीट पर जबकि विपक्षी राजद ने 42 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे और 20 विधानसभा क्षेत्रों में उसके गठबंधन सहयोगी कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार उतारे। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबबंधन (राजग) में शामिल जदयू से नाता तोड़कर लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख और दिवंगत केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के पुत्र चिराग पासवान इन 71 सीटों में से 41 सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं।

श्रेयसी सिंह और जीतन राम मांझी समेत कई प्रमुख उम्मीदवार थे मैदान में
जिन प्रमुख उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला आज इवीएम में कैद हो गया उनमें राष्ट्रमंडल खेल में निशानेबाजी में स्वर्ण पदक विजेता श्रेयसी सिंह शामिल हैं, जो 27 साल की उम्र में जमुई से भाजपा उम्मीदवार के रूप में अपना भाग्य आजमा रही हैं। श्रेयसी सिंह का मुकाबला राजद के विजय प्रकाश यादव से है। राज्य मंत्रिमंडल में शामिल प्रेम कुमार (गया टाउन), विजय कुमार सिन्हा (लखीसराय), राम नारायण मंडल (बांका), कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा (जहानाबाद), जय कुमार सिंह (दिनारा) और संतोष कुमार निराला (राजपुर) का पहले चरण के चुनाव में भाग्य इवीएम में आज कैद हो गया। इनमें से वर्मा, सिंह और निराला जद (यू) के हैं, जबकि शेष भाजपा के हैं। इमामगंज सीट पर हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी का मुकाबला राजद उम्मीदवार और विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी से है।
 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close