उत्तर प्रदेशराज्य

बदायूं के सिमकार्ड मामला: सुरक्षा एजेंसियां सतर्क, धरपकड़ शुरू  

 बदायूं   
बदायूं के फैजगंज बेहटा में सिमकार्ड विक्रेताओं पर एटीएस इस बार कहर बनकर टूटी है। मोटी रकम कमाकर रातोंरात अमीर बनने की चाह में यहां प्री एक्टीवेटेड सिमकार्ड का धंधा जड़ें जमा चुका था। बताया जाता है कि हाल ही में चंदौसी से ओरछी तक की दुकानों से 250 से अधिक प्री एक्टीवेटेड सिमकार्ड बेचे गए थे और बाद में इन्हें दिल्ली व लखनऊ तक पहुंचाया गया। पाकिस्तान को कालिंग होने के कारण सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गईं और यह धरपकड़ कर दी गई। 

जिले में प्रीएक्टीवेटेड सिमकार्ड का कारोबार कई साल पहले से चल रहा है। वहीं आधारकार्ड के जरिए नए सिमकार्ड मिलने की प्रक्रिया शुरू हुई तो काफी हद तक इस पर बंदिश लग गई। इधर, कारोबारियों ने इस प्रक्रिया का तोड़ भी निकाल लिया। कम पढ़े लिखे सीधे लोग सिमकार्ड खरीदने जाएं तो आधार लिंक कराने के नाम पर उनसे एक से अधिक सिमकार्ड एक्टीवेट आसानी से कर लिए जाते हैं। एक सिमकार्ड उन्हें दे दिया जाता है। जबकि इसके अलावा एक्टीवेट किए गए सिमकार्ड को कुछ व्यापारी अपने पास रख लेते हैं। बाद में उन्हें एक्टीवेट करके महंगे दामों में अपराधियों को बेचने से नहगीं चूकते। फैजगंज व चंदौसी इलाकों में भी शायद कुछ ऐसा ही हुआ होगा और अब यह कार्रवाई हो गई। 

हवाला कारोबारी भी निशाने पर आये
बिसौली व फैजगंज इलाके के कुछ गांव हवाला कारोबार और ऑनलाइन ठगी के लिए बदनाम हैं और दिल्ली तक यहां के लोगों का नेटवर्क जुड़ा हुआ है। एटीएस के निशाने पर ये हवाला कारोबारी भी आ चुके हैं। एटीएस को शक है कि इन्हीं के जरिए सिमकार्ड खरीदे गए और उनकी खेप दिल्ली तक पहुंचाई गयी है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button