मध्य प्रदेशराज्य

फ्रांस का विरोधः भोपाल में मसूद की रैली,शिवराज बोले- बख्शेंगे नहीं

भोपाल
फ्रांस में एक टीचर की नृशंस हत्या (Murder) स्कूल के बाहर इसलिए कर दी गई थी क्योंकि उसने अपने स्टूडेंट्स को पैगंबर मोहम्मद के कार्टून (Prophet Cartoon) दिखाए थे। हत्यारे को पुलिस ने गोली मार दी। इसके बाद फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों (French President) ने टीचर सैमुएल पैटी की हत्या को 'इस्लामी आतंकवाद' (Islamic Terrorism) करार देकर कहा कि 'इस्लाम हमारा भविष्य हथियाने का इरादा रखता है, जो कभी नहीं होगा।' इन घटनाओं के बाद से विदेश के साथ-साथ भारत में भी इसका तेजी से विरोध हो रहा है, मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के इक़बाल मैदान में गुरुवार को हजारों की संख्या में लोग इकट्ठा हुए, ये लोग फ्रांस के राष्ट्रपति का विरोध कर रहे थे। विरोध प्रदर्शन विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में किया गया। पूरे मामले को लेकर मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कार्रवाई की बात कही है।

भोपाल में कांग्रेस विधायक ने की रैली
दरअसल फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने पैगम्बर मोहम्मद साहब का एक विवादित चित्र का समर्थन किया, जिसे लेकर मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा दुनियाभर में विरोध किया जा रहा है। इसी तर्ज पर भोपाल में भी लोगों ने हाथ में तख्तियां लेकर प्रदर्शन करते हुए फ्रांस के राष्ट्रपति से माफी मांगने की अपील की। हालांकि, बड़ी संख्या में भीड़ इकट्ठी करने को लेकर विधायक मसूद समेत 2 हजार लोगों के खिलाफ कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने का मामला भी दर्ज हो गया है। वहीं पूरे मामले पर मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शांति भंग करने वालों से पूरी सख्ती से निपटेंगे की बात कही है।

भोपाल में मैंक्रों के विरोध में रैली, शिवराज बोले बख्शेंगे नहीं
फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ भोपाल के इकबाल मैदान में भी रैली निकाली गई। कांग्रेस के विधायक आरिफ मसूद ने इस रैली का आयोजन किया। सोशल मीडिया के जरिए हजारों की भीड़ इकबाल मैदान में जुटाई गई, जहां मैंक्रों के पुतले जलाए गए। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना काल में बिना इजाजत इस तरह की रैली निकालने वालों पर सख्त ऐक्शन की बात कही है। उन्होंने ट्वीट किया, 'मध्य प्रदेश शांति का टापू है। इसकी शांति को भंग करने वालों से हम पूरी सख्ती से निपटेंगे। इस मामले में 188 IPC के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा, वो चाहे कोई भी हो।'

'मजहब पर टिप्पणी की किसी को अधिकार नहीं'
शिवराज सरकार द्वारा कार्रवाई की बात पर कांग्रेस विधायक मसूद ने रैली निकालने का बचाव किया। मसूद ने कहा, 'फ्रांस के राष्ट्रपति ने जो हमारे धर्मगुरु और मजहब के बारे में टिप्पणी की, हमने उसका विरोध किया है। किसी का मजहब इजाजत नहीं देता कि किसी के धर्मगुरु के खिलाफ टिप्पणी की जाए। उन्होंने जो टिप्पणी की और कार्टून बनाया हमने उसका विरोध किया।' उन्होंने कहा कि वह किसी भी कार्रवाई के लिए तैयार हैं।

मुंबई में सड़क पर रौंदे गए फ्रांस के राष्ट्रपति के पोस्टर
वहीं मुंबई में फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मैन्युअल मैक्रों के खिलाफ प्रदर्शन हो रहा है। पैगंबर मोहम्मद के कार्टून को लेकर शुरू हुए विवाद और उसके बाद के घटनाक्रमों को लेकर प्रदर्शन हो रहा है। फ्रांस में हुए हमले को 'इस्लामिक आतंकी हमला' कहने को लेकर मैक्रों के पोस्टर को सड़क पर लगाकर उन्हें पैरों तले रौंदा जा रहा है। यह विरोध ऐसे वक्त में हो रहा है, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस के नीस शहर में हुए आतंकी हमले समेत हालिया हमलों की निंदा की है। वहीं विदेश मंत्रालय ने भी मैक्रों के ऊपर हो रहे हमलों की निंदा करते हुए कहा कि आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत फ्रांस के साथ है। महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी की सरकार ने मामले पर चुप्पी साध ली है।

PM मोदी बोले- आतंकवाद के खिलाफ जंग में भारत फ्रांस के साथ
पूरे मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस में एक गिरिजाघर में हुए हमले सहित हाल के दिनों में वहां हुई आतंकवादी घटनाओं की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत फ्रांस के साथ खड़ा है। मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘फ्रांस में आज एक गिरिजाघर में हुए हमले सहित हाल के दिनों में वहां हुई आतंकवादी घटनाओं की मैं कड़े शब्दों में निंदा करता हूं।'' उन्होंने कहा, ‘‘पीड़ित परिवारों और फ्रांस की जनता के प्रति हमारी गहरी संवेदनाएं हैं। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत फ्रांस के साथ खड़ा है।''

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button