राजनीति

पश्चिम बंगाल: भाजपा को चुनाव से पहले मिला बड़ा मुद्दा, देश भर में विरोधियों को कठघरे में खड़ा करने की तैयारी

नई दिल्ली
पुलवामा आतंकी हमले में पाकिस्तान द्वारा स्वीकारोक्ति के बाद भाजपा को आतंकवाद का बड़ा मुद्दा मिल गया है। पार्टी इस पर विपक्षी दलों को कटघरे में खड़ा कर रही है और इसे वह विभिन्न राज्यों में अलग-अलग ढंग से लेकर जाएगी। बिहार विधानसभा के चुनाव और विभिन्न उपचुनाव में तो यह मुद्दा गरमा ही गया है भविष्य में पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में भी भाजपा इस पर तृणमूल कांग्रेस, कांग्रेस एवं वामपंथी दलों को पर निशाना साधेगी। भाजपा के लिए बिहार के विधानसभा चुनावों के बाद पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव सबसे अहम हैं। यहां पर पार्टी बड़े बदलाव की तैयारी में है। पश्चिम बंगाल का मोर्चा गृहमंत्री अमित शाह का बड़ा मिशन है। पार्टी अध्यक्ष रहते हुए शाह ने ही इसकी पूरी व्यूहू रचना की थी। अब फिर शाह इसका मोर्चा संभालने जा रहे हैं।

हर राज्य में उठेगा मुद्दा
पुलवामा के मुद्दे पर एक समय विपक्षी दलों ने सबूत मांग कर भाजपा और केंद्र की मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा किया था और बड़ा मुद्दा बनाया था। अब जबकि पाकिस्तान के एक मंत्री ने इसे अपनी सरकार की कामयाबी बताया है तब भाजपा विपक्षी दलों पर हमलावर हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से लेकर पार्टी के नेता और संगठन देशभर में विरोधी खेमे को घेरने में जुट गए हैं। यह केवल केंद्रीय स्तर का मुद्दा ही नहीं बनेगा बल्कि हर राज्य की पार्टी इकाई अपने यहां इस मुद्दे को उठाकर अपने विरोधी दल को कटघरे में खड़ा करेगी।

मिशन बंगाल के लिए मुफीद
अब जबकि छह महीने बाद पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव होने हैं, तब भाजपा को यह बड़ा मुद्दा हाथ लग गया है। इसके जरिए वह ममता बनर्जी, कांग्रेस और वामपंथी दलों को एक साथ घेर सकती है। राष्ट्रवाद का मुद्दा भाजपा का पहले से ही बड़ा मुद्दा रहा है अब उसे इससे और धार मिलेगी। साथ ही सामाजिक समीकरण में भी यह मुद्दा काम कर सकता है।

नड्डा की जगह शाह करेंगे दौरा
भाजपा के लिए अगले साल बड़ा मोर्चा पश्चिम बंगाल का है। बिहार की चुनावी जंग खत्म होने के साथ ही भाजपा पश्चिम बंगाल का मोर्चा संभाल लेगी। गृह मंत्री अमित शाह पांच नवंबर को दो दिन के दौरे पर पश्चिम बंगाल जा रहे हैं। जहां वह कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करने के साथ सभाएं भी करेंगे। हाल में शाह की अस्वस्थता के चलते जेपी नड्डा छह नवंबर को बंगाल जाने वाले थे। अब जबकि शाह स्वस्थ हैं तो नड्डा का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है। इसके पहले नड्डा ने सिलीगुड़ी में जाकर पार्टी की बैठक ली थी। पार्टी ने हाल में संगठन में भी बंगाल के नेताओं को महत्व दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button