मध्य प्रदेशराज्य

परीक्षाओं से अटका नर्सिंग विद्यार्थियों का साल

जबलपुर
प्रदेश में चार सौ से ज्यादा नर्सिंग कॉलेज हैं, और इन कॉलेजों में हजारों विद्यार्थी अध्यनरत हैं,  लेकिन उक्त विद्यार्थियों के भविष्य  को  लेकर सरकार जरा भी चिंतित नहीं है। यही कारण है कि जबलपुर मेडिकल विवि द्वारा इस वर्ष की परीक्षाएं  अभी  तक  नहीं  ली  गई  हैं,  जो  कि मार्च-अप्रैल के महीने में हो जाना चाहिए थीं। इस  मामले  में कई  निजी  नर्सिंग  कॉलेज संचालकों  ने  जबलपुर  मेडिकल  विवि  की परीक्षा  शाखा  को  जिम्मेदार ठहराते हुए  उस  पर लेटलतीफी करने का आरोप लगाए है। संचालकों का कहना है कि जबलपुर मेडिकल विवि जब से अस्तित्व  में आया  है  कई  संकायों में  परीक्षाएं देरी से हो रही हैं। इस बार तो कोरोना संक्रमण के  कारण  देरी  हुई  है,  लेकिन  पूर्व  के  वर्षों  में अनायास  ही  देरी  होती  रही  है।  इसका  सीधा असर  चार  सौ  कॉलेजों  में  पढ़ने  वाले  हजारों विद्यार्थियों पर पड़ रहा है।  

बीएससी से लेकर पीएचडी सब परेशान   
जबलपुर  मेडिकल विवि  से  संबंधित  प्रदेश  के  चार  सौ  से ज्यादा मेडिकल कॉलेजों में बीएससी नर्सिंग, एमएससी नर्सिंग,  पोस्ट  बेसिक  नर्सिंग,  डीएससी  नर्सिंग और पीएचडी नर्सिंग कोर्स संचालित होते हैं। जानकारी के मुताबिक प्रत्येक नर्सिंग कॉलेज में  उक्त  सभी  डिग्री  कोर्स  में  हर  साल  सौ  से ज्यादा विद्यार्थी प्रवेश  लेते  हैं।  इस  तरह प्रदेश के सभी चार सौ नर्सिंग कॉलेज में लगभग चालीस  हजार  के  आसपास  विद्यार्थी पढ़ते  हैं, जिससे विद्यार्थी त्रस्त हो चुके हैं।

एमपी नर्सिंग काउंसिल में भी हो रही देरी
नर्सिंग के क्षेत्र में एएनएम और जीएनएम के  डिप्लोमा  कोर्स  संचालित  करने  की  जिम्मेदारी चिकित्सा  शिक्षा  विभाग  के  अंतर्गत  आने  वाले एमपी नर्सिंग काउंसिल के पास है। परीक्षाओं में देरी  का  मामला  यहां  भी  प्रकाश  में  आया  है। विद्यार्थियों का  कहना  है  कि  नर्सिंग  काउंसिल  के अधिकारी  इस  मामले  में  उनकी  सुनवाई  नहीं कर  रहे  हैं,  बिना  वजह  डिप्लोमा  कोर्स  की परीक्षाएं टाली जा रही हैं। जब दूसरे कॉलेजों में आयुष के कोर्स की परीक्षाएं शुरू हो गई हैं, तो फिर नर्सिंग के कोर्स में परीक्षाएं आयोजित नहीं कराई जा रहीं।

विवि ने अंतिम वर्ष की परीक्षाएं कराईं
परीक्षाएं  देर  से  कराने  के  मामले  में  एक  तरफ जबलपुर मेडिकल विवि विद्यार्थियों के निशाने पर हैं। वहीं  दूसरी  ओर  उसने  नर्सिंग  के  सभी  डिग्री कोर्स  की  अंतिम  वर्ष  की  परीक्षाएं  समय  पर आयोजित कर खुद को सुरक्षित कर लिया है। मई-जून में विवि द्वारा नर्सिंग कोर्स की अंतिम वर्ष  की  परीक्षाएं  ली  गईं  और  जल्द  उसका रिजल्ट  भी  दे  दिया  गया।  इससे  कई  विद्यार्थियों को कोरोना काल में विद्यार्थियों को अस्पतालों में कार्य करने का मौका मिल गया है।

वर्जन
कोरोना काल में कोरोना संक्रमण के कारण इस वर्ष कई विषयों की परीक्षाएं आगे  बढ गई हैं। अब  हमने  परीक्षाएं आयोजित करना शुरू कर दी हैं, जल्द ही नर्सिंग की परीक्षाएं भाी आयोजित की जाएंगी।
डॉ. टीएन दुबे, कुलपति, मेडिकल विवि जबलपुर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button