छत्तीसगढ़राज्य

पंजाब में यूरिया की भारी कमी से गेहूं-सब्जियों की बुवाई प्रभावित

नई दिल्ली
फार्म बिल के विरोध में पंजाब में किसानों का विरोध प्रदर्शन एक महीने से जारी है। पिछले एक महीने से अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन कर रहे किसान रेल रोको आंदोलन चला रहे हैं। इसके कारण वहां कई चीजों की कमी हो गई है। मालगाड़ियों के रद्द होने से गेहूं और सब्जियों की फसलों के लिए यूरिया की भारी कमी हो गई है, और राज्य सरकार के अधिकारियों का कहना है कि इस वजह से रबी फसल की बुवाई प्रभावित हो सकती है। किसानों को रबी फसलों की बुवाई के लिए यूरिया और डीएपी (डायमोनियम फॉस्फेट) की जरूरत होती है।

जरूरत 14.50 लाख टन, उपलब्ध 75 हजार टन
कृषि विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को कहा, 'राज्य में यूरिया की कमी है।' अधिकारियों के अनुसार पंजाब में रबी सत्र के लिए 14.50 लाख टन यूरिया की जरूरत है, लेकिन राज्य में केवल 75,000 टन यूरिया ही उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि चार लाख टन यूरिया की खेप अक्टूबर में आने वाली थी, लेकिन केवल एक लाख टन ही पहुंची। नवंबर के लिए राज्य में चार लाख टन यूरिया का आवंटन किया गया है।

35 लाख हेक्टेयर में होती है बुआई
गेहूं की बुवाई का सत्र नवंबर में शुरू होगा। रबी सत्र के दौरान राज्य में लगभग 35 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में गेहूं की बुवाई होने की उम्मीद है। पंजाब को गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और अन्य राज्यों से रेलगाड़ियों के माध्यम से यूरिया की आपूर्ति होती है। केंद्र के नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने कुछ रेल पटरियों को बाधित कर दिया है, जिसके मद्देनजर रेलवे ने पंजाब में मालगाड़ी सेवाओं को निलंबित कर दिया। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने माल ढुलाई सेवाओं को बहाल करने के लिए रेल मंत्री पीयूष गोयल से हस्तक्षेप करने के लिए कहा था, जिस पर गोयल ने पंजाब सरकार से रेलगाड़ियों और चालक दल के सदस्यों की सुरक्षा का आश्वासन मांगा।

बिजली संकट मंडराया
प्रदेश में बिजली की हालत भी खराब हो गई है। रेल यातायात प्रभावित होने के कारण कोयले की सप्लाई ठीक से नहीं हो पा रही है, ऐसे में प्रॉडक्शन का काम रुका हुआ है। कोयला आधारित बिजली संयंत्रों में ईंधन भंडार न के बराबर बचा है। पंजाब राज्य बिजली निगम लि. के चेयरमैन-सह-प्रबंध निदेशक ए वेणु प्रसाद ने शुक्रवार को कहा था कि पांच Thermal power plants में से केवल एक चल रहा है। प्रसाद ने संवाददाताओं से बिजली की मौजूदा स्थिति को दयनीय बताया। उन्होंने कहा, 'एक महीने से राज्य में कोयला रैक नहीं आ रहे। इससे राजपुरा में नाभा थर्मल प्लांट और मनसा में तलवंडी साबो पावर लि. में कोयला पूरी तरह से खत्म हो गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button