राजनीति

नीतीश NDA का साथ छोड़ तेजस्वी को दे आशीर्वाद -दिग्विजय

पटना
बिहार चुनाव के नतीजे सामने आने के साथ ही सियासी घमासान भी तेज होने लगा है। एनडीए गठबंधन की जीत के बाद अब विपक्षी खेमा आगे की रणनीति बनाने में जुटा हुआ है। इसी बीच कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने नीतीश कुमार को लेकर ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने जेडीयू अध्यक्ष से बीजेपी का साथ छोड़ कर तेजस्वी को आशीर्वाद देने की बात कही है। उन्होंने कहा कि नीतीश जी, लालू जी ने आपके साथ संघर्ष किया है आंदोलनों मे जेल गए हैं। बीजेपी/संघ को छोड़िए। देश को बर्बादी से बचाइए। हालांकि, दिग्विजय के इस ट्वीट पर कांग्रेस ने अपना पल्ला झाड़ लिया है। दूसरी ओर, बीजेपी ने कांग्रेस नेता पर पलटवार किया है।

बिहार चुनाव में कांटे की टक्कर के बाद एनडीए गठबंधन ने बहुमत का आंकड़ा हासिल कर लिया। फाइनल नतीजों के बाद बुधवार सुबह में दिग्जिवय सिंह ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए। इसमें उन्होंने बिहार चुनाव को लेकर अपनी बात रखी। कांग्रेस नेता ने सीधे तौर पर अपने ट्वीट में नीतीश कुमार से बीजेपी का साथ छोड़ने की अपील की। दिग्विजय ने ट्वीट में कहा, 'नीतीश जी, बिहार आपके लिए छोटा हो गया है, आप भारत की राजनीति में आ जाएं। सभी समाजवादी धर्मनिरपेक्ष विचारधारा में विश्वास रखने वाले लोगों को एकमत करने में मदद करते हुए संघ की अंग्रेजों की ओर से पनपाई 'फूट डालो और राज करो' की नीति ना पनपने दें। विचार जरूर करें।'

दिग्विजय सिंह ने अगले ट्वीट में लिखा, 'यही महात्मा गांधी जी और जयप्रकाश नारायण जी के प्रति सही श्रद्धांजलि होगी। आप उन्हीं की विरासत से निकले राजनेता हैं वहीं आ जाइए। आपको याद दिलाना चाहूंगा जनता पार्टी संघ की Dual Membership के आधार पर ही टूटी थी। भाजपा/संघ को छोड़िए। देश को बर्बादी से बचाइए।' कांग्रेस नेता ने लिखा, बीजेपी/संघ अमरबेल के समान हैं, जिस पेड़ पर लिपट जाती है वह पेड़ सूख जाता है और वह पनप जाती है। नीतीश जी, लालू जी ने आपके साथ संघर्ष किया है आंदोलनों मे जेल गए हैं। भाजपा/संघ की विचारधारा को छोड़ कर तेजस्वी को आशीर्वाद दे दीजिए। इस 'अमरबेल' रूपी भाजपा/संघ को बिहार में मत पनपाओ।'

दिग्विजय सिंह के इस बयान पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह बयान हार की पीड़ा है। उनका भी मीडिया में बने रहने का ये तरीका है उनकी बातों पर टिप्पणी नहीं करना चाहता। दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी ने दिग्विजय के ट्वीट से खुद को अलग कर लिया है। पार्टी नेता ने कहा कि ये उनका विचार है, इसका पार्टी से लेना देना नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button