छत्तीसगढ़राज्य

नहरपारा के प्रभावितों ने मुआवजा के बदले एफएआर दिए जाने अभी तक नहीं दिया सहमति पत्र

रायपुर
बॉटल नेक निर्माण के लिए मौदहापारा से गुरुद्वारा जाने वाले मार्ग पर स्थित नहरपारा के समीप सड़क चौड़ीकरण का कार्य किया था जिसके लिए भूखण्ड व भवन स्वामियों के साथ नगर निगम के साथ हुई बैठक में एफएआर दिए जाने का प्रस्ताव रखा गया था लेकिन अभी तक भूखण्ड व भवन स्वामियों द्वारा सहमति पत्र नहीं दिए जाने के कारण प्रस्ताव विचारण में नहीं लिया जा सका हैं।

विधानसभा में तारांकित प्रश्नोत्तर के माध्यम से विधायक कुलदीप जुनेजा ने नगरीय प्रशासन मंत्री डा. शिवकुमार डहरिया से जानना चाहा कि नहरपारा के समीप स्थित मार्ग बाटल नेक हो गया है? तो क्या इसे चौड़ा करने हेतु सर्वे उपरांत यहां बने भवनों को मुआवजा देकर हटाने का प्रस्ताव नगरीय प्रशासन विभाग में लंबित है, तो विभाग द्वारा कब तक तथा क्या कार्यवाही प्रस्तावित है। इस प्रश्न के जवाब में डा. डहरिया ने बताया कि व्यवस्थापन अथवा मुआवजा हेतु विभागीय बजट / निकाय के बजट में प्रावधान नहीं रहता है। नगर पालिका निगम रायपुर के द्वारा भूखण्ड / भवन स्वामियों को चर्चा हेतु आहूतकर भूखण्ड के बदले एफएआर दिए जाने का प्रस्ताव दिया गया था। भूखण्ड / भवन स्वामियों के द्वारा इस हेतु सहमति पत्र नहीं दिया गया है। इस मार्ग के अलावा मुख्य मार्ग सुगम यातायात हेतु उपलब्ध है। वर्तमान में भवनों का मुआवजा देकर हटाने का प्रस्ताव विचारण में नहीं लिया गया है। भू-स्वामियों द्वारा भूखण्ड की अथवा मुआवजा की मांग किए जाने के कारण मार्ग चौड़ीकरण हेतु प्रस्ताव विचारण में नहीं लिया जा सका है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button