अंतरराष्ट्रीय

नवाज शरीफ के दामाद की गिरफ्तारी की जांच करेगी पाकिस्तान में मंत्रिस्तरीय कमेटी 

इस्लामाबाद
पाकिस्तान मुस्लिम लीग-एन (पीएमएल-एन) नेता और पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद, रिटायर्ड कैप्टन सफदर अवान की गिरफ्तारी की जांच एक मंत्रिस्तरीय समिति करेगी। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, स्थानीय मीडिया ने सूत्रों के हवाले से बताया कि मंगलवार को कराची में मुख्यमंत्री के आवास पर बैठक हुई। इस बैठक के दौरान जांच समिति ने यह फैसला किया कि घटना की तथ्य-पड़ताल संबंधी रिपोर्ट को कंपाइल करने के लिए रोजना बैठक की जाएगी। सूत्रों के मुताबिक, मंत्रिस्तरीय निकाय ने कैप्टन सफदर अवान और आईजी सिंध के मुद्दे पर साक्ष्यों को इकट्टा किया है।

एआरवाई न्यूज ने सूत्रों के हवाले से बताया- "होटल से लेकर पुलिस स्टेशन तक सभी सीसीटीवी रिकॉर्ड को खंगाला गया है।" सूत्रों ने बताया- "समिति ने कमेटी सेशन के दौरान व्यक्तिगत तौर पर पेश होने के लिए सफदर अवान को समन भेजने का फैसला किया है।" सूत्रों ने यह भी बताया कि सिंध पुलिस के आईजी और एडिशनल आईजी को भी एक या दो दिन में जांच के लिए समन किया जा सकता है। जांच समिति इस रिपोर्ट को कंपाइल करेगी और सिंध के मुख्यमंत्री को सौंपेगी। सूत्रों ने आगे बताया कि समिति होटल के कमरे और सिंध के आईजी के आवास का भी निरीक्षण करेगी और अगर जरूरत पड़ी तो पीएमएल-एन के उपाध्यक्ष मरयम नवाज से संपर्क भी साधेगी। यह सब ऐसे वक्त पर हुआ जब संयुक्त विपक्षी गठबंधन- पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) के बैनर तले ‘कठपुतली’ सरकार के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ प्रदर्शन कर उनके इस्तीफे की मांग की गई। हजारों लोग कराची में हुई इस रैली में शामिल हुए थे। रैली के बाद पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) नेता मरयम नवाज के पति सफदर अवान को होटल के कमरे से गिरफ्तार किया गया था। पीएमएल-एन नेता और नवाज शरीफ और मरयम नवाज सिंधर के पूर्व राज्यपाल मुहम्मद जुबैर के प्रवक्ता ने कहा कि सिंध के आईजीपी को रेंजर्स ने किडनैप कर लिया। रेंजर्स की तरफ से उन पर सफदर के ऊपर एफआईआर दर्ज करने के लिए दवाब डाला गया। इसके बाद पुलिस ऑफिसर्स में गहरी नाराजगी देखने को मिली और बड़ी तादाद में उन्हें छुट्टी के लिए आवेदन दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button