छत्तीसगढ़राज्य

नक्सली मुठभेड़ में एक जवान घायल, ईनामी नक्सली ने डाला हथियार

नरायणपुर/बीजापुर। नक्सल प्रभावित नारायणपुर और बीजापुर में गश्ती पर निकले सुरक्षा बल की टीमों के साथ नक्सलियों से टकराहट हुई। नारायणपुर में नक्सलियों द्वारा किए गए विस्फोट में एक जवान घायल हो गया तो दूसरी ओर बीजापुर में गश्त के दौरान पुलिस व सुरक्षा बल के गश्ती दल ने चार नक्सलियों को पकड़ा। इनमें से एक ईनामी नक्सली ने सुरक्षाबल के सामने अपने हथियार डालते हुए आत्मसर्पण कर दिया। वहीं पुलिस ने तीन अन्य नक्सलियों को गिरफ्तार कर लिया।

शुक्रवार को नारायणपुर जिले में नक्सलियों के द्वारा किए आईईडी विस्फोट की पुष्टि करते हुए पुलिस कप्तान मोहित गर्ग ने बताया कि सुबह टीम सर्चिंग के लिये निकली थी उसी दौरान कोहकामेटा और कचापाल मार्ग पर नक्सलियों द्वारा बिछाए गए आईईडी ब्लास्ट हो गया जिससे  1 जवान घायल हो गया है घायल जवान आइटीबीपी 53वीं बटालियन चार्ली कम्पनी का है। फिलहाल जवान की हालात स्थिर बताई जा रही ह ैउसे जवान को जिला अस्पताल लाया जा रहा है।

दूसरी ओर सुबह सर्चिंग के लिये निकली गश्ती टीम के सामने इनामी नक्सली ने आत्मसर्पण कर दिया। सुखराम ओयाम नक्सली की पुलिस को काफी समय से तलाश थी। वह अनेक नक्सली वारदातों में शामिल था। पुलिस ने उस पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित किया हुआ है।  इधर बीजापुर जिले में 1 लाख के इनामी नक्सली ने सरेंडर किया है। इसका नाम सुखराम ओयाम बताया जा रहा है। मिली जानकारी के अनुसार ये नक्सली लंबे समय से नक्सली वारदातों को अंजाम दे रहा था। इसके साथ ही पुलिस ने इस पर एक लाख का इनाम घोषित किया था।  बताया जाता है कि मुखबीर से मिली सूचना के आधार पर जिला पुलिस बल और सुरक्षा बल के जवानों ने इलाके में घेराबंदी कर दबोचा है। जानकारी के अनुसार गिरफ्तार किए गए नक्सली लंबे समय से नक्सली वारदातों को अंजाम दे रहे थे। एक नक्सली पर पुलिस ने एक लाख का ईनाम घोषित किया था। चारों के खिलाफ लूट पाट और हत्या के मामले बताया जा रहा है कि पकड़े गए नक्सली सहायक सब इंस्पेक्टर (एएसआई) नागैय्या कोरसा की हत्या में शामिल थे। दो माह पहले एएसआई कोरसा को अगवा कर उन्हें मार दिया गया था। जवानों को मौके से टेंट, चाकू, पर्चा और अन्य उपयोगी वस्तुएं मिली हैं।

जानकारी के मुताबिक, कुटरू थाने से गुरुवार को डीआरजी और पुलिस जवान संयुक्त रूप से सर्चिंग के लिए मिनगाचल नदी के किनारे तेलीपेंटा, दरभा की ओर निकले थे। इस दौरान मिनगाचल नदी के किनारे सुबह करीब 6 बजे दरभा के पास नीला टेंट लगा देखा। इस पर जवानों ने घेराबंदी कर वहां से तीन संदिग्धों को पकड़ लिया।

तलाशी के दौरान नक्सली बैनर, पर्चा, नोट बुक, चाकू, पटाखे और अन्य दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद हुई है। पुलिस ने पकड़े गए नक्सलियों में किलेपारा दरभा निवासी संतु सोढी, कोकड़ीपारा दरभा निवासी रामलु कुहरामी और काकलूपारा दरभा निवासी लक्ष्मी पोडियाम शामिल है। पुलिस द्वारा पूछताछ में नक्सलियों ने एएसआई नागैय्या कोरसा की हत्या करने की बात कबूली है। उसूल ब्लॉक के चेरामंगी गांव निवासी नागैय्या कोरसा कुटरु थाने में पदस्थ थे। वह रविवार शाम ड्यूटी खत्म कर छुट्टी लेकर अपने घर जा रहे थे। इसके बाद मंगापेट्टा के पास उनकी बाइक लावारिस हालत में मिली थी। अगले दिन कुटरू-बीजापुर मार्ग पर केतुलनार के पास सड़क किनारे उनका शव मिला।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close