छत्तीसगढ़राज्य

दशहरे की रौनक गायब, रावण दहन के लिए पहली बार गाइड लाइन

रायपुर
कोरोनाकाल में अब तो त्यौहारों की रौनक ही गायब हो गई है।जो हर साल दशहरा पर उत्साह देखने को मिलता था इस बार नहीं है,संबंधित सारे बाजार खामोशी से केवल औपचारिकता निभाने की तैयारी में लगे हैं। प्रशासन ने गाइड लाइन तय कर दिया हैं उसी के अनुसार पुतलों का दहन होगा। प्रशासन की गाइडलाइन के चलते महज 10 से 12 स्थानों पर ही खुले मैदानों में रावण पुतले का दहन हो सकेगा। जो लोग देखने के लिए पहुंचेंगे उन्हें भी 100 मीटर दूर बैरिगेट लगाकर रोक दिया जाएगा।इस बार रावण दहन के दौरान आतिशबाजी भी नहीं होगी। रायपुर की डब्ल्यूआरएस कॉलोनी रावणभाटा,शंकरनगर जैसे सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति केवल परम्परा का पालन कर रहे हैं। छोटे छोटे कट आउट नुमा पुतले बिकने के लिए बाजार पहुंचे तो हैं पर कोई लेवाल नहीं हैं।

दशहरे पर रावण दहन को लेकर प्रशासन की ओर से 29 प्वाइंट की गाइडलाइन जारी की गई है। इसमें कहा गया है कि पुतला दहन किसी बस्ती में नहीं होगा। वीडियोग्राफी करानी होगी और आने वाले हर व्यक्ति का नाम, पता, मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा। कार्यक्रम स्थल पर 4 सीसीटीवी कैमरे लगाने होंगे। किसी भी तरह के वाद्य यंत्र या म्युजिक सिस्टम बजाने की अनुमति नहीं होगी। कोरोना संक्रमण और प्रशासन की गाइडलाइन को देखते हुए इस बार रावण पुतला दहन को लेकर प्रचार नहीं किया जा रहा है। सभी समितियां कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रख रही हैं। एक आयोजन स्थल से दूसरे की दूरी 500 मीटर तय की गई है। अब इतने सारे नियम कायदे लाद दिए तो भला कौन करेगा आयोजन। सुरक्षा के लिहाज से भी लोग कन्नी काट रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button