Home विदेश ताइवान के खिलाफ चीन की कार्रवाई का जवाब देना बेहद जरूरी, जानें...

ताइवान के खिलाफ चीन की कार्रवाई का जवाब देना बेहद जरूरी, जानें किसने, क्‍यों और कहां दिया बयान

48
0

वाशिंगटन
अमेरिका ने कहा है कि चीन जिस तरह से ताइवान के ऊपर से मिसाइल लान्‍च कर रहा है उसका मुकाबला किए जाने की जरूरत है। ये बात अमेरिकी मिलिट्री कमांडर ने ने कही है। बता दें कि अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की स्‍पीकर नैंसी पेलोसी के ताइवान दौरे के बाद चीन ने इस इलाके में अपनी सबसे बड़ी मिलिट्री ड्रिल को अंजाम दिया है।

इसके जवाब में अमेरिका की 7वें फ्लीट कमांडर वाइस एडमिरल कार्ल थामस ने सिंगापुर में एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि जिस रूट पर चीन अपनी बैलेस्टिक मिसाइल ताइवान की समुद्री जल सीमा में लान्‍च कर रहा है वो दशकों से दुनिया का सबसे बिजी शिप रूट बना हुआ हे। इसलिए ये बेहद जरूरी है कि इस तरह की फायरिंग का मुकाबला किया जाना चाहिए और इसका जवाब दिया जाना चाहिए। उन्‍होंने ये भी कहा कि वो ये जानते हैं इस तरह से मिसाइल लान्‍च कर चीन ताइवान के खिलाफ गोरिल्‍ला युद्ध की शुरुआत कर चुका है।

एडमिरल कार्ल थामस ने कहा कि ऐसे समय में यदि किसी ने जवाब नहीं दिया और हम चुप लगाकर बैठे रहे तो आगे कुछ और होगा। चीन का अंतरराष्‍ट्रीय समुद्री समा में ताइवान के ऊपर से मिसाइल लान्‍च करना पूरी तरह से अमान्‍य कार्रवाई है। ये एक शिपिंग लेन है जहां से शिप बिना किसी रोकटोक के आते और जाते हैं। आपको बता दें कि अमेरिका नौसेना की 7वीं फ्लीट जापान बेस्‍ड है और इसकी हर वक्‍त पेसेफिक में मौजूदगी बनी रहती है।

गौरतलब है कि चीन की पीपुल्‍स लिब्रेशन आर्मी ने इस माह में कईबैलेस्टिक मिसाइल ताइवान की समुद्री सीमा में लान्‍च की हैं। ये सीधी ताइवान की राजधानी ताइपे के ऊपर से होकर गुजरी हैं। कार्ल ने कहा कि ताइवान पर जिस तरह की कार्रवाई चीन कर रहा है ये ठीक वैसी ही है जैसी वो दक्षिण चीन सागर में करता आया है। यहां पर भी चीन अपनी दादागिरी चलाता आया है, जिसको रोकना जरूरी है। दक्षिण चीन सागर में चीन ने कृत्रिम द्वीप बनाकर अपने मिलिट्री बेस बनाए हैं। वो दूसरे देशों को डराता और धमकाता रहता है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here