बिज़नेस

डिजिटल पेमेंट में बड़े बदलाव की तैयारी, क्विक रिस्पॉन्स क्यूआर कोड को जारी करेंगी पेमेंट कंपनियां: RBI

 नई दिल्ली  
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने कहा कि सभी पेमेंट ऑपरेटर्स को 31 मार्च 2022 तक अंतर-संचालित क्विक रिस्पॉन्स क्यूआर कोड को अपनाना होगा। आरबीआई के इस आदेश का मतलब है कि पेमेंट ऑपरेटर्स को एक ऐसे क्यूआर कोड सिस्टम में शिफ्ट करना होगा, जो दूसरे पेमेंट ऑपरेटर्स द्वारा भी स्कैन हो सके। इस प्रोसेस को लागू करने की अंतिम तिथि 31 मार्च 2022 तय की गई है। प्रोफेसर दीपक फाटक की अगुवाई वाली एक कमेटी ने अगले दो साल में अंतर-संचालित क्यूआर कोड्स में बदलाव को लेकर कई सुझाव दिए थे। वर्तमान में, देश में तीन तरह के क्यूआर कोड चलते हैं। ये भारत क्यूआर, यूपीआई क्यूआर और प्रोपराइटरी क्यूआर कोड हैं। यूपीआई और भारत पहले की तरह ही जारी रहेंगे। केंद्रीय बैंक की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि इंटरऑपरेबल क्यूआर कोड्स के बारे में जागरुकता फैलाने के लिए पेमेंट सिस्टम ऑपरेटर्स को पहली करनी होगी। फाटक ​कमेटी के इस सुझाव से पेमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने में मदद मिलेगी। इंटरऑपरेबिलिटी की वजह से आम लोगों को सहूलियत होगी और पेमेंट ​सिस्टम भी पहले से बेहतर हो सकेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close