राष्ट्रीय

टेरर टैक्स वसूलता था सैफुल्लाह, करता था घायल आतंकियों का इलाज…श्रीनगर में ढेर हिज्बुल कमांडर की पूरी कुंडली

श्रीनगर
रविवार को जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में मारा गया हिज्बुल का टॉप कमांडर सैफुल्लाह कश्मीर में कई बड़े हमलों में शामिल था। मुठभेड़ में मारा गया हिजबुल का कमांडर सैफुल्लाह उर्फ डॉक्टर उर्फ गाजी हैदर ए+ श्रेणी का आतंकी था, जिसकी लंबे समय से सुरक्षाबलों को तलाश थी। सैफुल्लाह काफी समय से हिज्बुल के साथ जुड़ा हुआ था। सैफुल्लाह कश्मीर में सुरक्षाबलों पर हमले के प्लान बनाता था। इसके अलावा वो कश्मीर में फलों के बाग, अफीम की खेती करने वालों से आतंकवाद के नाम पर पैसों की उगाही भी करता था। इन सबके बीच उसका सबसे बड़ा काम ये था कि वह मुठभेड़ में घायल होने वाले आतंकियों का इलाज करता था। जिससे उसका नाम डॉक्टर पड़ गया था। सैफुल्लाह भी उसी बुरहान वानी गैंग का सदस्य था, जिसके कई टॉप आतंकी पूर्व में मार गिराए गए हैं।

बाग मालिकों से वसूलता था टेरर टैक्स
जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने सैफुल्लाह के मारे जाने को बड़ी सफलता बताया है। सैफुल्लाह घाटी में रियाज नायकू के बाद हिज्बुल की कमान को संभाले हुए था। नायकू की मौत के बाद उसे चीफ बनाया गया था। उसके पीछे कारण यह था कि वह नायकू का काफी करीबी था। इस समय सैफुल्लाह सीधे हिजबुल चीफ सैयद सलाहुद्दीन के संपर्क में था। पिछले साल सैफुल्लाह ने कश्मीर में एक नया तरीका शुरु किया था। जिसमें उसने घाटी में फलों का व्यापार करने वाले बाग मालिकों से पैसों की उगाही शुरू की थी। इन पैसों से आतंकियों की फंडिंग की जाती थी।

सुरक्षाबलों के काफिले पर हुए 1 दर्जन हमलों में था शामिल
सैफुल्लाह ने कश्मीर में इस साल सुरक्षाबलों के काफिले पर करीब 1 दर्जन हमले किए थे। सैफुल्लाह ने मेडिकल की पढ़ाई की थी और वह पुलवामा के मलंगपोरा का निवासी था। सैफुल्लाह को आतंक के रास्ते पर ले जाने के पीछे रियाज नायकू शामिल था। सैफुल्लाह कश्मीर के नौगाम में हुए आतंकी हमले का मुख्य साजिशकर्ता था। इस हमले में 2 सीआरपीएफ जवान शहीद हुए थे। इसके अलावा सैफुल्लाह पंजाब के रास्ते आतंकियों के ड्रग रैकेट को संचालन करने में मुख्य भूमिका निभा रहा था।

ड्रग नेटवर्क के पैसों से हिज्बुल को कर रहा था मजबूत
बीते साल पंजाब में जिस ड्रग नेटवर्क का खुलासा हुआ था, उसके पैसे सैफुल्लाह तक पहुंचने वाले थे। पुलिस सूत्रों का कहना है कि सैफुल्लाह ने हिजबुल को पैसों के मामले में काफी मजबूत करने का काम शुरु कर दिया था। इन पैसों से युवाओं को पैसे देकर आतंकवाद के रास्ते पर लाने का काम किया जाता था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close