छत्तीसगढ़राज्य

गजराज बांध को बचाने छत्तीसगढ़ महतारी उतरी सड़क पर

रायपुर
बोरियाखुर्द में स्थित है गजराज बांध को पटने से बचाने के लिए छत्तीसगढ़ महतारी को रविवार को सड़क पर उतरना पड़ा। 230 एकड़ क्षेत्र में फैला गजराज बांध तालाब के 65 एकड़ क्षेत्र को पाट डाला गया है। पर्यावरणविद डॉक्टर पुरुषोत्तम चंद्राकर के आह्वान पर छत्तीसगढ़ महतारी के साथ 300 नागरिक रविवार सुबह 7 बजे शहर के हृदय स्थली बूढ़ा तालाब गार्डन विवेकानंद सरोवर बुढ़ेश्वर मंदिर चौक से नरहरेश्वर तालाब सिद्धार्थ चौक होते हुए संतोषी नगर, बोरियाखुर्द गजराज बांध तक पद यात्रा में शामिल हुए।

पर्यावरणविद डॉ. पुरूपोत्तम चन्द्राकर ने कहा कि आज रायपुर शहर का सबसे बड़ा 230 एकड़ का विशाल जलाशय गजराज बांध अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहा है। रायपुर शहर में एक समय में 300 से भी अधिक तलाब हुआ करते थे, लेकिन अब लगभग 150 तालाब ही रह गये हैं और जो बचा है उनका भी आकार बहुत छोटा होते जा रहा है, इनका संरक्षण जरूरी है। गजराज बांध के संरक्षण में आप सभी सहयोग प्रदान करें अगर गजराज बांध मूल रूप में 230 एकड़ में संरक्षित रहेगा तो आने वाले 50 साल रायपुर में पानी की कमी नहीं होगी। क्योंकि धरती के दो तिहाई भाग पानी से भरा हुआ है फिर भी पीने योग्य शुद्ध जल पृथ्वी पर उपलब्ध जल का मात्र 1 प्रतिशत हिस्सा ही है। 97 प्रतिशत जल महासागर में खारे पानी के रूप में भरा हुआ है शेष 2 प्रतिशत जल बर्फ के रूप में जमा हुआ है, आज समय है कि हम पानी की कीमत समझे। यदि जल व्यर्थ बहेगा तो आगे आने वाले समय में पानी की कमी एक महा संकट बन जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button