उत्तर प्रदेशराज्य

कोरोना संक्रमण का खतरा मेरठ जोन में बढ़ रहा, 10 दिनों में 4857 केस, 34 मौत

 मेरठ  
नवंबर के महीने में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। कोरोना अब खतरनाक स्थिति में आ रहा है। नवंबर के 10 दिनों में मेरठ मंडल में पौने पांच हजार से अधिक नए कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं। वहीं 34 लोगों की मौत हो चुकी है। 10 दिनों में इतनी बड़ी संख्या कोरोना संक्रमण खतरनाक स्थिति को दर्शाता है। मेरठ मंडल कमिश्नर अनीता सी मेश्राम ने कोरोना को लेकर सावधानी बरतने की अपील की है।

मेरठ मंडल में 31 अक्तूबर तक कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 58 हजार 908 थी। कमिश्नर ने सभी जिलों को अलर्ट किया था। उन्होंने कहा था कि अब और विशेष सावधानी की जरूरत है। बावजूद इसके कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं। मेरठ, गाजियाबाद और गौतमबुद्धनगर जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या हर दिन 100 से ज्यादा हो रही है। गौतमबुद्धनगर में तीन नवंबर को अब तक के सबसे अधिक 340 केस आए। उसके बाद से लगातार सभी जिलों में केस बढ़ते जा रहे हैं।

कोरोना संक्रमितों के सबसे अधिक केस 19 हजार 937 गाजियाबाद जिले में हो चुके हैं। कोरोना से मौत का आंकड़ा मेरठ जिले में सबसे अधिक 322 है। अब 10 नवंबर तक मंडल में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 63,765 हो चुकी है। 638 लोगों की अब तक मौत हो गई है। इस तरह 10 दिनों में 4857 नए केस और 34 लोगों की मौत हो गई। यह संख्या आने वाले दिनों के लिए खतरे की घंटी है।

मेरठ जिले में 10 दिन में 1305 केस, 23 मौत
मेरठ जिले की स्थिति भी कोरोना संक्रमण को लेकर काफी खतरनाक है। यदि लोग नहीं चेते तो दीपावली बाद शासन, प्रशासन को सख्त कार्रवाई के लिए सोचना पड़ेगा। नवंबर के 10 दिनों में मेरठ जिले में 1305 नए केस की पुष्टि हो चुकी है। 23 लोगों की मौत हो गई है। जिले की यह रिपोर्ट अच्छी नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button