राष्ट्रीय

केदारनाथ धाम के कपाट खुले, वर्चुअली होगी चारों धाम की यात्रा

केदारनाथ
विश्व प्रसिद्ध मंदिर केदारनाथ मंदिर के कपाट आज सुबह 5 बजे खोल दिए गए हैं। केदारनाथ धाम के कपाट छह माह के शीतकालीन अवकाश के बाद आज खोले गए हैं। कपाट विधि विधान और पूजा अर्चना के बाद खुले हैं। कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच कपाट खुलने पर यहां तीर्थयात्री और स्थानीय लोगों की संख्या काफी कम दिखाई दी। मंदिर को 11 कुंतल फूलों से सजाया गया है। उत्तराखंड के पीआर विभाग ने इस बात की जानकारी देते हुए ट्वीट किया, केदारनाथ धाम के कपाट आज विधि विधान से मंत्रोचारण के साथ सुबह पांच बजे खुल गए हैं। मंदिर के कपाट खुलने के पश्चात रावल भीमा शंकर लिंगम और मुख्य पुजारी बाघेश लिंगम ने स्वयंभू शिवलिंग को समाधि से जागृत किया तथा निर्वाण दर्शनों के पश्चात श्रृंगार और रूद्राभिषेक पूजाएं की गई हैं।

 
केदारनाथ धाम के कपाट खुलने पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने ट्वीट किया, ''विश्व प्रसिद्ध ग्यारहवें ज्योर्तिलिंग भगवान केदारनाथ धाम के कपाट आज सोमवार को सुबह 5 बजे विधि-विधान से पूजा-अर्चना और अनुष्ठान के बाद खोल दिए गए। मेष लग्न के शुभ संयोग पर मंदिर का कपाटोद्घाटन किया गया। मैं बाबा केदारनाथ से सभी को निरोगी रखने की प्रार्थना करता हूं।''

एक अन्य ट्वीट में सीएम तीरथ सिंह रावत ने लिखा, केदारनाथ के रावल (मुख्य पुजारी) आदरणीय श्री भीमाशंकर लिंगम् जी की अगुवाई में तीर्थ पुरोहित सीमित संख्या में मंदिर में बाबा केदार की पूजा-अर्चना नियमित रूप से करेंगे। मेरा अनुरोध है कि महामारी के इस दौर में श्रद्धालु घर में रहकर ही पूजा-पाठ और धार्मिक परंपराओं का निर्वहन करें। कोरोना गाइडलाइन्स के तहत मुख्य द्वार खुलने के बाद आम भक्तों को मंदिर में प्रवेश प्रतिबंधित किया गया है। लेकिन उनके लिए ऑनलाइन 'दर्शन' की व्यवस्था की गई है। कोविड-19 महामारी में बढ़ोतरी को देखते हुए एहतियात बरती गई है।

बढ़ते महामारी के मद्देनजर देवस्थानम बोर्ड ने प्रसिद्ध 'चार धाम' यात्रा को स्थगित करने का फैसला किया है, लेकिन बोर्ड ने एक आभासी 'यात्रा' के लिए आवश्यक तैयारी की है। जिसके बाद देशभर के लाखों श्रद्धालुओं को वर्चुअल माध्यम से बद्रीनाथ, केदारनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री धाम के दर्शन करने में सुविधा होगी। वहीं चमोली जिले में स्थित बदरीनाथ धाम के कपाट 18 मई को ब्रह्म मुहूर्त में सुबह 4.15 मिनट पर खोले जाएंगे। तृतीय केदार तुंगनाथ मंदिर के कपाट भी आज खोले जाएंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button