राष्ट्रीय

किसान आंदोलन के 100 दिन: दिल्ली के बाहर बड़ी ‘नाकेबंदी’ की योजना, दिल्ली के अंदर से समर्थन जुटाने की कवायद

नई दिल्ली 
सिंघु बॉर्डर पर बैठे किसानों ने ऐलान किया है कि वह आंदोलन को ओर तेज करेंगे। किसान संगठनों ने 06 मार्च को सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक केएमपी एक्सप्रेस-वे पर ट्रैफिक रोककर विरोध जताने का फैसला किया है। नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसान आंदोलन को 100 दिन पूरे होने को हैं, लेकिन इसके खत्म होने का कोई रास्ता नहीं दिख रहा। 06 मार्च से देशभर में अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। अधिक संख्या में युवाओं को जोड़ा जा रहा है। आंदोलन स्थल पर गर्मी से मुकाबले के लिए पंखे, कूलर और एसी लगाए जा रहे हैं। इसके अलावा पीने के पानी, छबील और गन्ने के रस की व्यवस्था की गई है। किसानों ने प्रदर्शनस्थल पर बोरवेल भी लगवा लिया है। 

सिंघु टोल प्लाजा बंद : जीटी करनाल रोड पर दिल्ली की तरफ से पुलिस ने पहले से ही बैरिकेडिंग कर रास्ता बंद कर रखा है। अब सिंघु बॉर्डर गांव के बीच में से कोंडली चौकी की तरफ जाने वाले रास्ते को भी सीमेंट के बैरिकेड लगाकर बंद कर दिया गया है। यहां से केवल पैदल और दोपहिया सवार को जाने की अनुमति है। कार समेत अन्य चार पहिया वाहनों को जोंती टोल से जीटी करनाल रोड पर जाने का रास्ता दिया गया है। सिंघु गांव के रास्ते में गांव वालों ने खेतों में पानी देने के लिए दो जगह खोद दिया है। रास्ते बंद होने से आसपास के गांव के लोगों और जीटी रोड इस्तेमाल करने वाले लाखों लोगों को परेशानी हो रही है। 

जोश बरकरार : प्रदर्शनस्थल पर किसानों का जोश बरकरार है। यहां युवाओं की टोली टैक्टर मार्च कर नारे लगाती दिखी। बुजुर्ग हाथ में बैनर लेकर पैदल चलते दिखे। पारंपरिक पोशाक में हरियाणा के जींद, करनाल, सोनीपत आदि गांवों से महिलाएं आती दिखाई पड़ीं। मंच से किसान नेता आगे की रणनीति बताते हुए अधिक से अधिक लोगों खासकर युवाओं को प्रदर्शनस्थल पर एकत्रित होने की अपील कर रहे थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button