छत्तीसगढ़राज्य

कहासुनी के बाद महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष के बेटे ने चढ़ा दी सभी पर कार, 4 साल के मासूम की मौत

गरियाबंद
सोमवार देर रात मालगांव के पास नेशनल हाईवे-130 सी पर गरियाबंद महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष व विधायक प्रतिनिधि रह चुकी ममता राठौर व जिला कांग्रेस के कोषाध्यक्ष के बेटे ने ग्रामीणों के साथ हुई कहासुनी के बाद अपने दोस्तों के साथ कार में पहुंचे और उस समय मौजूद ग्रामीणों पर सीधे कार को चढ़ा दिया जिससे मौके पर 4 चार के मासूम की मौत हो गई वहीं 11 अन्य घायल हो गए जिन्हें बेहतर इलाज के लिए रायपुर रिफर किया गया है। वहीं इस मामले में पुलिस ने रोमित राठौर और सौरभ कुटारे को गिरफ्तार किया है, वहीं अन्य तलाश की जा रही है। वहीं आज सुबह ग्रामीणों ने मासूम के शव को लेकर चक्काजाम कर दिया जिससे ओडिशा आने-जाने वाले वाहनों की लंबी कतार लगी और उन्हें 12 किमी पहले डायवर्ट किया गया, इस दौरान बसों का परिचालन भी प्रभावित हो गया था।

घटना देर रात करीब 10.30 बजे की है। मालगांव में रावण दहन के बाद ग्रामीण अपने घर लौट रहे थे। इस दौरान ढाबे पर खाना खाकर लौट रहे कार सवार 4-5 युवकों से ग्रामीणों की कहासुनी हो गई। इसके बाद युवक वहां से चले गए और थोड़ी देर बाद युवक फिर लौट और तेज रफ्तार कार से उस समय मौजूद ग्रामीणों पर कार को चढ़ा दिया जिसके चलते घटनास्थल पर ही 4 साल के मासूम की मौत हो गई वहीं 11 अन्य ग्रामीणजन घायल हो गए। उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां चार 4 ग्रामीणों की गंभीर स्थिति को देखते हुए उन्हें तत्काल रायपुर रिफर किया गया।

घटना के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गए और उन्होंने सुबह महिला जिला कांग्रेस अध्यक्ष ममता राठौर के घर का घेराव कर करते हुए पत्थराव किया और बाद में मालगांव के पास नेशनल हाईवे 130 सी पर पहुंच गए और मासूम के शव को रखकर चक्काजाम कर दिया, इस दौरान बड़ी संख्या में महिलाएं भी मौजूद थी। सूचना मिलते ही पुलिस फोर्स के साथ पुलिस पहुंची और भारी हंगामें के बाद रोमित राठौर (24 साल)और सौरभ कुटारे (26 साल) को गिरफ्तार किया।

ग्रामीण अपनी मांग पर सुबह से अड़े हुए हैं और पुलिस उन्हें समझाने का प्रयास कर रही है। ग्रामीणों की कुछ मांगों को पुलिस ने मानते हुए आरोपियों पर हत्या का केस तो दर्ज कर लिया है लेकिन ग्रामीण घायलों को 10-10 लाख रुपए और मृतक के परिजनों को 25 लाख व सरकारी नौकरी देने की मांग पर अड़े हुए है। साथ ही सभी आरोपियों की गिरफ्तारी और उन्हें गांव के चौराहे पर लाने की मांग वे कर रहे है।

बताया जा रहा है कि सभी युवक नशे की हालत में थे। हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए ओडिशा आने-जाने वाले वाहनों की लंबी कतार लगी है और उन्हें 15 किमी पहले पांडुका और राजिम से वाहनों को छुरा डायवर्ट किया है। जबकि ओडिशा की ओर से आने वाले वाहनों को गरियाबंद से दो किमी पहले पंतोरा नाला से डायवर्ट किया जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button