राजनीति

उपचुनाव: कमलनाथ की फिसली जुबान, मंत्री इमरती को कहा आइटम

डबरा
उप चुनाव का प्रचार तीखा होता जा रहा है। रविवार को डबरा में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की जुबान फिसल गई। उन्होंने चुनावी सभा में अपने कार्यकाल में मंत्री रहीं और अब भाजपा से डबरा विधानसभा की उम्मीदवार इमरती देवी को आईटम कह दिया। भाजपा ने इसका कड़ा विरोध किया है। बीजेपी ने चुनाव आयोग पहुंचकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर कार्रवाई करने और उनकी चुनावी सभाओं पर रोक की मांग की है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस तरह की शब्दावली का विरोध किया है और इसे सामंती विचार बताया है।

दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री नाथ ने डबरा की सभा में जनता से कुछ इस अंदाज में नाम पूछा जैसे वे इमरती देवी से कभी मिले नहीं। जब सभा में मौजूद लोगों ने उनका नाम लेकर बताया तो नाथ ने कहा कि आप लोग तो उनको मुझसे ज्यादा पहचानते हैं। आप लोगों को मुझे उनसे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था। ये क्या.. आइटम है। नाथ ने कहा कि हमारे प्रत्याशी सीधे सादे हैं। उनके जैसे नहीं हैं। इन्हें मौका मिला तो नई किसान नीति बनाएंगे और प्रदेश के विकास के लिए नए सिरे से काम करेंगे।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा कि इमरती देवी उस गरीब किसान की बेटी का नाम है जिसने गांव में मजदूरी करने से शुरूआत की और आज जनसेवक के रूप में राष्ट्र निर्माण में सहयोग दे रही हैं। कांग्रेस ने मुझे भूखा-नंगा कहा और एक महिला के लिए आइटम शब्द का प्रयोग कर पूर्व सीएम कमलनाथ ने अपनी सामंती सोच उजागर कर दी।

कमलनाथ पर भड़के शिवराज
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बयान पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी तीखी टिप्पणी की है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कमलनाथ जी! इमरती देवी उस गरीब किसान की बेटी का नाम है जिसने गांव में मजदूरी करने से शुरुआत की और आज जनसेवक के रूप में राष्ट्रनिर्माण में सहयोग दे रही हैं. कांग्रेस ने मुझे ‘भूखा-नंगा’ कहा और एक महिला के लिए आपने ‘आइटम’ जैसे शब्द का उपयोग कर अपनी सामंतवादी सोच फिर उजागर कर दी.

कमलनाथ जी!

इमरती देवी उस गरीब किसान की बेटी का नाम है जिसने गाँव में मजदूरी करने से शुरुआत की और आज जनसेवक के रूप में राष्ट्रनिर्माण में सहयोग दे रही हैं।

कांग्रेस ने मुझे ‘भूखा-नंगा’ कहा और एक महिला के लिए आपने ‘आइटम’ जैसे शब्द का उपयोग कर अपनी सामंतवादी सोच फिर उजागर कर दी।

— Shivraj Singh Chouhan (@ChouhanShivraj) October 18, 2020

अपने एक और ट्वीट में शिवराज ने कहा कि खुद को ‘मर्यादा पुरुषोत्तम’ बताने वाले ऐसी ‘अमर्यादित भाषा’ का प्रयोग कर रहे हैं? नवरात्रि के पावन पर्व पर देश नारी की उपासना कर रहा है, ऐसे में आपके बयान से आपकी ओछी मानसिकता झलकती है. बेहतर होगा कि आप अपने शब्द वापिस लें और इमरती देवी सहित प्रदेश की हर बेटी से माफी मांगें.

खुद को ‘मर्यादा पुरुषोत्तम’ बताने वाले ऐसी ‘अमर्यादित भाषा’ का प्रयोग कर रहे हैं? नवरात्रि के पावन पर्व पर देश नारी की उपासना कर रहा है, ऐसे में आपके बयान से आपकी ओछी मानसिकता झलकती है।

बेहतर होगा कि आप अपने शब्द वापिस लें और इमरती देवी सहित प्रदेश की हर बेटी से माफी माँगें।

— Shivraj Singh Chouhan (@ChouhanShivraj) October 18, 2020

मगरूर नेता को सबक सिखाने का समयः सिंधिया
कमलनाथ की उक्त टिप्पणी पर पूर्व कांग्रेस और वर्तमान में बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि एक गरीब और मजदूर परिवार से आगे आईं दलित नेता इमरती देवी जी को आज डबरा में आइटम और जलेबी कहना अत्यंत निंदनीय और आपत्तिजनक है. ये कमलनाथ जी की मानसिकता को भी दर्शाता है. महिलाओं के साथ ही समूचे दलित समाज का अपमान करने वाले ऐसे मगरूर नेता को सबक सिखाने का समय आ गया है.

एक गरीब और मजदूर परिवार से आगे आईं दलित नेता इमरती देवी जी को आज डबरा में आइटम और जलेबी कहना अत्यंत निंदनीय और आपत्तिजनक है – ये कमलनाथ जी की मानसिकता को भी दर्शाता है। महिलाओं के साथ ही समूचे दलित समाज का अपमान करने वाले ऐसे मगरूर नेता को सबक सिखाने का समय आ गया है I pic.twitter.com/ipz2jCYkOV

— Jyotiraditya M. Scindia (@JM_Scindia) October 18, 2020

कमलनाथ के बयान पर बीजेपी ने विरोध जताया है और इसे नवरात्र के दौरान महिलाओं का अपमान बताया है. बीजेपी का कहना है कि इससे पहले दिग्विजय सिंह ने उनकी ही पार्टी की नेता और पूर्व सांसद के बारे में जो कहा था उसका भी विरोध हुआ था और अब कमलनाथ जी इस तरह के बयान दे रहे हैं जो गलत है.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close