उत्तर प्रदेशराज्य

इस बार का लैक्मे फैशन वीक मशहूर शायर कैफी आजमी के गांव मिजवां की लड़कियों पर समर्पित होगा  

 आजमगढ़  
इस बार का लैक्मे फैशन वीक मशहूर शायर कैफी आजमी के गांव मिजवां को समर्पित रहेगा। 21 अक्तूबर से शुरू हो रहा यह फैशन वीक कैफी साहब की संस्था मिजवां वेलफेयर सोसाइटी को मदद करेगा। पहली बार हो रहे इस आभासी संस्करण की ओपनिंग मंगलवार रात आठ बजे देश के मशहूर फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा एक शार्ट फिल्म के माध्यम से करेंगे।  खास बात है कि फैशन वीक की ओपनिंग फिल्म में भी कैफी-शबाना के गांव मिजवां की दो लड़कियां नजर आएंगी।

मिजवां वेलफेयर सोसाइटी की चिकनकारी सेंटर की संयोगिता व इसी गांव की रेनू को भी देशभर के लोग ओपनिंग फिल्म रूहानियत में देख पाएंगे। बालीवुड कलाकार इस फैशन वीक व विशेष रूप से मनीष मल्होत्रा की ओपनिंग फिल्म रूहानियत की जोर शोर से प्रमोशन में लगे हुए हैं। अभिनेता अनिल कपूर, संगीतकार गायक शंकर महादेवन, सिनेतारिका करीना कपूर ने बकायदा इसके प्रमोशन के लिए वीडियो संदेश जारी किए हैं। उधर लैक्मे फैशन वीक अपने अधिकृत ट्विटर हैंडल पर भी मिजवां वेलफेयर सोसाइटी और रूहानियत को प्रमोट कर रहा है। मिजवां वेलफेयर सोसाइटी के सीईओ विनोद पांडे कहते हैं कि कैफी साहब द्वारा स्थापित यह संस्था शबाना आजमी की देखरेख में लगातार आजमगढ़ व आसपास के गांव विशेष तौर पर उनके अपने गांव मिजवां की लड़कियों के कल्याण के लिए प्रयासरत है। इस बार हमारी इन बेटियों के प्रशिक्षण आदि के लिए लैक्मे फैशन वीक भी सपोर्ट करेगा। हम बेहद उत्साहित हैं। 

शबाना ने कैफी के सपनों को दी उड़ान 
कैफी आजमी ने इस सोसाइटी की नींव 1993 में जरूर रखी थी लेकिन उनके सपनों को असली उड़ान उनकी बेटी व सिने तारिका और पूर्व राज्यसभा सांसद शबाना आजमी ने दिया। शबाना आजमी ने पिछले एक दशक में लगभग हर वर्ष एक फैशन शो आयोजित कर मिजवां को देश ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नई पहचान दिलाने की कोशिश की है। मूल रूप से गांव की कमजोर लड़कियों को पढ़ा लिखा व प्रशिक्षित कर उन्हें मजबूत करने का काम सोसाइटी कई वर्षों से करती आ रही है। यहां के चिकनकारी सेंटर में काम करने वाली ढाई सौ से अधिक ग्रामीण लड़कियों की तारीफ फैशन वर्ल्ड करता रहा है। 

– शबाना आजमी कहती हैं मुझे खुशी है कि इस बार लैक्मे फैशन वीक अपने पहले डिजिटल संस्करण में मिजवां की महिलाओं व लड़कियों का सपोर्ट कर रही है। मनीष मल्होत्रा की रूहानियत के माध्यम से हम अपने गांव के कलाकारों का हुनर आभासी  दुनिया में ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचा पाएंगे। फैशन की दुनिया में हमारे कलाकारों की स्वीकार्यता बढ़ेगी। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close